जीवन में परिवार का महत्व क्या है

जीवन में परिवार का महत्व क्या है – Friends में आज आपसे पूछता हु, की हमारे जीवन में परिवार का क्या महत्व है, क्या हम परिवार के बिना रह सकते है या नहीं, दोस्तों में आज आपको बताता हु, की जीवन में परिवार का क्या महत्व है या जीवन में परिवार कितना जरुरी है. सबसे पहले आप एक बात समझले की आज कल के जमाने में परिवार दो तरह के  होते है, एक छोटा  परिवार और एक बढ़ा परिवार या सय्युक्त परिवार.जीवन में परिवार का महत्व क्या हैपर मित्रो पहले के जमाने में ऐसा नहीं था आज से कुछ साल पहले जब हम बचपन में थे या उससे कुछ और समय पहले के सब परिवार के लोग एक साथ रहते थे. चाहे वो सब लोग अलग – अलग क्यों न काम करते हो पर शाम को सब साथ में बैठ के खाना खायेगे और बातचीत करते हे और सब का हाल चाल पूछते थे.

अपनी दिन भर की दिनचर्या का हाल बताते थे. और दोस्तों उस समय हर परिवार में एक मुखिया होता था जो सारे परिवार को कंट्रोल करता था.

वो घर को अपने हिसाब से चलाता था और सब लोग उसकी बात मानते थे. मुखिया ही सारा मैनेजमेंट करता था. पहले सब उस मुखिया की बात मानते थे जैसा वो बोलता था वैसाही होता था, कोई उसके विरुद्ध नहीं  जाता था. वो सब का अपने हिसाब से ख्याल रखता था, और सब लोग खुश रहते थे. और दोस्तों पहले पूरा घर मुखिया के हाथ से चलता था.

जोभी चीज खरीदना या बेचना हो सब उसके हाथ में रहता था. जब घर के किसी भी सदस्य के लिए कुछ सामान खरीदना होता था. तो वो घर का मुखिया खुद ही खरीदता था, और मित्रो पहले घर में खाना बनता था तो सब लोग एक साथ बैठ के खाते थे जो नहीं आया हो ता तो उसका इंतजार होता था.

और फिर सब लोग साथ में खाते थे. पर दोस्तों अब ऐसा नहीं होता है अब दुनिया में हर इंसान चाहे वो लेडिस हो या जेन्टस अकेले रहना चाहते है, याने छोटे परिवार में रहना चाहते है, सब अपनी मर्जी के मालिक रहना चाहते है.

और अब पहले जैसा घर का मुखिया भी नहीं रहता आज कल सब का अपना अपना अलग काम होता है अपना अपना बिजनेस होता है, कीसी के पास किसी के लिए टाइम नहीं है, दोस्तों आज के परिवारों में वो सब काम धीरे धीरे बंद होते जारहे है, जो पहले के सय्युक्त परिवारों में होते थे.

जीवन में परिवार का महत्व क्या है”

मगर आजकल तो ऐसा हो गया है की लोग एक ही छत के निचे रहते है पर कई दिनों तक एक दूसरे का चेहरा नहीं देख पाते.

दोस्तों पहले अगर घर में शादी होती थी तो पूरा परिवार एक दो महीने पहले से ही तैयारी करने लगते थे सब खुश रहते थे  सब घर में शादी का इंतजार करते थे.

और पहले अपने रिश्तेदार लोग होते थे जैसे मामा, भुवा, मौसी आदि ये भी सब पहले से आके शादी इंजॉय करते थे. पहले बहुत अच्छा माहौल होता था, हा में भी बचपन से ऐसे परिवार या फेमेली में रहा हु, मुझे भी इन चीजों का अनुभव है जो में आज आपको बता रहा हु, और दोस्तों मेरा मानना है की आप भी पहले ऐसे परिवार में रहे होंगे और येभी सही है, वो आज भी हमे वो यादे याद आते है.

पर क्या दोस्तों आज के जमाने में ऐसा होता है, आज के लोग पहले जैसा नहीं रहना चाहते आज बस लड़के की जैसे ही शादी हुई वो अपनी पत्नी को लेके अलग परिवार बसा लेता है.

और अपनी  माँ – बाप का घर छोड़ देता है, Friends मेरा मानना है की आज की तुलना में पहले के परिवारों में नुकसान नहीं था, आज की माये अपने  बच्चो को संभालने के लिए आया रखती है और पहले घर में दादा – दादी होते थे.

बच्चो का डिपार्टमेंट दादा – दादी के ही पास होता था, वो लोग बच्चो को अच्छी शिक्षा देते थे, क्या वो चीज आज हमारे परिवार को मिलेगी जो हम अपनी बीवी को लेके अलग रहते है.

क्या हमारे बच्चे  भी  हमारी तरह समझदार रहेंगे में यहां में अपना बोल रहा हु, की हमें बचपन में हमारे घर वालो ने संभाला ना की आया ने हम दादा – दादी की गोद में खेल के बढे हुए.

दोस्तों तब हमारे में ये आज संस्कार है, इस लिए में आज के जमाने के लोगो से कहना चाहता हु, की आप भी अपने बढ़ो के साथ रहे तभी आपको जीवन में परिवार का महत्व समझमे आएंगे अन्यथा नहीं.

पर Friends फिर भी जीवन में परिवार का महत्व कैसे समझा जाये आप कहेगे की पहले ऐसा नहीं था. पहले घर का हर सदस्य काम नहीं करता था. तो सब घर में इकट्ठे रह सकते थे.

और आज के जमाने में सब का अपना अलग काम होता है सब की अपनी जॉब होती है, तो ऐसे में क्या करे, तो ये भी सब ठीक है, आप आज के जमाने के हिसाब से चले और अपना काम जरूर करे काम तो सब के लिए एक जरुरी चीज है.

पर मित्रो जीवन में परिवार या फेमेली के महत्व को समझने के लिए हम कुछ ऐसा नहीं कर सकते की हम जिन माँ – बाप  को छोड़ के आगये है, उनकी कमी नहीं खले और वोभी खुश रहे, हा दोस्तों आप और हम ऐसा जरूर कर सकते है, हमे समय – समय पर उनके पास जाना चाहिए हमे उनके साथ वक्त बिताना चाहिए हमें उनसे बात चित करते रहना चाहिए.

और ये भी जरुरी है, की आज की इस मेह्गाई भरी जिंदगी में ऐसा होता भी नहीं की हम केवल घर पर ही बैठ जाये तो आप को जोभी तरीका मिले अपनी परिवार से बात करने का उनके साथ समय बिताने का वो तरीका घुँडो बस कुछ भी कर के हमें जीवन में परिवार का महत्व समझना होगा.

Friends सय्युक्त परिवार के बहुत फायदे होते थे. हमे अगर परिवार या रिश्तेदार में कही जाना होता था तो हमारा काम सँभालने वाला हमारा भाई या चाचा होता था, अगर भाई कहि जाता था तो हम उसका काम संभाल लेते थे, और शादी ब्याह में घर का काम करने में कोई दिक्कत या मुसीबत नहीं आती थी.

हमारे यहा इतने लोग होते थे की सब काम अच्छे से होते थे, किसी काम में दिक्कत नहीं आती थी सब काम होते थे.

और दोस्तों छोटे परिवार की अगर बात करू तो किसी के घर में अगर एक ही इंसान काम करने वाला है तो सारा बोझ उस पर ही आता है, चाहे वो कुछ भी काम करता हो उसे कही जाना होतो सब काम छोड़ उसे जाना पढ़ेगा  क्यों की वहा उसका काम सँभालने वाला कोई नहीं होता है.

आप को मेने बच्चो का उदाहरण तो पहले ही देदिया था, और ऐसे कई फायदे है जो बढे परिवार में है और छोटे में नहीं है, हर इंसान के जीवन में फेमेली उसका परिवार बहुत अहमियत रखता है.

चाहे वो उसके माँ – बाप हो या उसके अपने बच्चे सब को वो बहुत प्यार करता  है. और मेरा अपना अनुभव ये कहता है, की आज का हर इंसान सही है, जो काम के लिए देश में कही भी जाके रहता है

उसको अपने परिवार की याद जरूर आती है, अगर वो इंसान किसी गांव का रहने वाला होगा तो वो अपनी गांव की मिटटी तक कोभी याद करता होगा अपने खेत खलिहान कोभी नहीं भूलता पर आज का इंसान किसी न किसी काम में फसा हुवा है.

इसी लिए वो जीवन में परिवार के  महत्व को नहीं समझ पारहा है, कोई इंसान दूर नहीं रहना चाहता है अपने परिवार से सब को याद आती है, तो दोस्तों आप भी कही भी हो अपने परिवार से बात करे और हो सके तो उनसे मिलने भी जाये उनको भी अच्छा लगेगा और आप कोभी याने दोनों खुश रहेंगे.

हा तो दोस्तों आप को मेरा ये लेख “जीवन में परिवार का महत्व क्या है” केसी लगी please हमे बताये और में ये आशा करता हु, की आप भी परिवार के महत्व को समझेंगे और दूसरे लोगो को भी बतायेगे कभी अपने परिवार को दुःख नहीं देंगे हमेशा अपने परिवार का सहयोग करेंगे चाहे आप एक जुट हो या अलग पर परिवार का सदा ख्याल रखे.

तो आपको यह लेख कैसा लगा हमे अपने विचार अपने Comments के माध्यम से जरूर बताये.

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.