जीवन में परीक्षा का महत्व क्या है

जीवन में परीक्षा का महत्व क्या है – दोस्तों हर इंसान के जीवन में कभी ना कभी यह मौका आता है की उसे कभी न कभी कोई न कोई परीक्षा Exam देना पड़ती है पर उसमे पास होना या न होना ये हमारे परफॉर्मेंस पर depend करता है हम इंसानो का सारा जीवन भी एक परीक्षा के रूप में होता है. हमे कदम – कदम पर परीक्षाएं देना पड़ती है जिसमे कुछ परीक्षाएं ऐसी आती है जिनका हमे पहले से पता होता है मगर कुछ परीक्षाएं अचानक भी आती है और उन अचानक से आनेवाली परीक्षाओ में पास होने वाला ही सही मायने में सफल इंसान होता है.
जीवन में परीक्षा का महत्व क्या हैतो दोस्तों आप परीक्षा के बारे में क्या समझते है या ” परीक्षा का महत्व क्या है ” उसके बारे में आप क्या समझते है. ऐसा दुनिया में कोई इंसान नहीं है जिसने अपने जीवन में कभी परीक्षा नहीं दी हो, हम सबने अपने जीवन में कभी ना कभी परीक्षा दी है. और ये बात अलग है की परीक्षा में कभी सफल होते है और कभी विफल और  हमे ये जानना बहुत जरूरी है.

मै आपको बताता  हु की जीवन में परीक्षा क्यों जरूरी है. की परीक्षा देने से हमारे ज्ञान में निखार आता है. हमे जीवन की सच्चाई के बारे में पता चलता है और ये बात अलग है की हम उसमे पास हो या फेल पर परीक्षा देने से हमारे अंदर अनुभव आता है. और वही अनुभव हमारे जीवन में कदम – कदम पर हमारे काम आता है.

इंसान के जीवन में कई बार ऐसी अग्नि परीक्षाएं आती है, जिसमे वो फसता है पर फसने के बाद भी वहा से उत्तीर्ण होकर निकलता है, और जो परीक्षा जितनी ज्यादा कठोर होती है, उसमे उतना ही ज्यादा अनुभव मिलता है.

जीवन में परीक्षा का महत्व क्या है”

जैसे हमे कसी पहाड़ पर चढ़ना है पर वहा का रास्ता बहुत कठिन है, याने हमारे लिए वो भी एक परीक्षा है, जिसे हमे उत्तीर्ण करना है और जिस इंसान में दृढ़ निश्चय होता है, वो उस पहाड़ रूपी परीक्षा को आसानी से पार कर देता है, और जो कमजोर होते है वो बिच रास्ते में ही गिर जाते है, याने अनुत्तीर्ण हो जाते है.

परीक्षा दो प्रकार की होती है –

1 . एक School की परीक्षा और

2. दूसरी जीवन की परीक्षा

School की परीक्षा तो कुछ साल में खत्म हो जाती है. पर जीवन की परीक्षाएं हमारे मरते दम तक चलती रहती है. हमे सारे जीवन भर जीवन की परीक्षाये देना पढ़ती है. और यह ऐसी परीक्षा होती है जो हमे न चाहते हुए भी देना पढ़ती है.

और School की परीक्षा में तो कुछ दिन बाद Result भी आजाता है. पर विडंबना यह है की जीवन की Exams में कभी – कभी Result भी नहीं आता है.  और आता भी है तो हमे उसे समझना पड़ता है.

और सबसे खास बात यह है की जिंदगी में आनेवाली परीक्षाएं कभी बताके नहीं आती और ये हमे तैयार होने का वक्त भी नहीं देती और हम इन है छोड़ भी नहीं सकते ये परीक्षाएं हमे देना ही पड़ती है और ये किसी एक विषय से संबंधित नहीं होती ये हमारी जिंदगी के कई महत्व पूर्ण विषयो से संबंधित आती है – जैसे पारिवारिक, आर्थिक और भी अन्य प्रकार की Exam जो हमारे सामने आती रहती है.

और दोस्तों School की परीक्षा तो हमे बताकर ली जाती है. पर जीवन की परीक्षा हमे बिना बताये ही ली जाती है. और एक बात में यहा आपको बताता हु, की हम School में परीक्षा देते है, तो उसमे पास होने पर अगली Class में जाते है. मतलब पास होने पर हमारी Class बदल जाती है. याने हम आगे बढ़ जाते है.

और दोस्तों में आपको बताता हु, की कई बार जोग हमारी परीक्षा लेते है. और हमे उसका पता भी नहीं रहता. मतलब हमे बिना बताये ही हमारी परीक्षा ली जाती है. और उसका Result भी हमे ऐसे नहीं बताते की तुम इस परीक्षा में पास हो गए.

यह परीक्षा लेने वाले के ऊपर निर्भर है, की हम परीक्षा में पास हुए है तो वो हमे क्या इनाम दे वह लोग हमे उन परीक्षाओं के द्वारा ही समझते है की यह इंसान कैसा है.

दोस्तों कोई इंसान है, वो किसी सेठ की दुकान पर काम करता है. और उस सेठ को उस इंसान की ईमानदारी को परखना है. की ये मुझे कभी आगे जाके धोका तो नहीं देगा. तो उसके लिए वो सेठ उस इंसान की परीक्षा लेता है. और मित्रो ये परीक्षा क्या होगी ये आपको में भी नहीं बता सकता वो आपको कोई पैसे का काम दे सकता है.

या कोई सामान दे सकता है. या आपके भरोसे पर अपनी दुकान छोड़ देता है. है पर वो आपकी जैसे भी परीक्षा लेता है आपको ऐसा लगता है, की सेठ आपका ध्यान नहीं रख रहा है पर ऐसा नहीं सोचे सेठ ने आपकी परीक्षा ली है तो वो बराबर आप पर नजर रखता है. भलेही वो खुद नहीं रखता तो दुसरो से नजर रखवाता है. और अगर आप उसकी परीक्षा में पास होते है.

या उसकी उम्मीद पर खरे उतरता है तो उसको बहुत अच्छा लगेगा और जैसा की मैंने आपको बताया वो आपको ये भी नहीं बताएगा की उसने आपकी परीक्षा ली है. दोस्तों बस हमे अपना काम पूरी ईमानदरी से करना है की हम किसी भी प्रकार की जीवन की परीक्षा में पास हो सके.

दोस्तों हमे जीवन में हमारी ईमानदारी ही  हमे हर Exam में पास करवा सकती है. आप कही भी रहे कही भी काम करे बस अपनी ईमानदारी कायम रखे अगर आप ईमानदार है. तो सामने वाला अपनी दुकान क्या अपना सबकुछ आपके भरोसे छोड़ सकता है.

और हमे सारे जीवन भर किसी भी परीक्षा के लिए तैयार रहना है. चाहे वो हमे पता चले या ना चले पर अपने आप को तैयार रखना है. मित्रो में आपको एक और बात बताना चाहता हु, और खासकर पढ़ने वाले बच्चो से की आप अपनी पढ़ाई की तैयारी सिर्फ परीक्षा के लिए ना करे की हमे सिर्फ परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए पढ़ना है, और उसके बाद फिर सब भूल जाना है.

आपकी परीक्षा हो या ना हो अपनी हमेशा ऐसी तैयारी करके रखना है की कल ही परीक्षा हो और उसे देने के लिए हम हर वक्त हर समय तैयार रहे और ऐसी तैयारी करे की वो जीवन भर याद रहे.

दोस्तों School की परीक्षा में तो हम एक बार फेल भी हो जाये तो हमे दूसरा मौका भी मिल सकता है पर जीवन की परीक्षा में हमे कभी दुबारा मौका नहीं मिलता एक बार किसी का भरोसा हम पर से उठ गया तो उसे दोबारा बनाना बहुत मुश्किल है.

तो हमे जीवन में हमेशा ऐसे कर्म करने है की किसी को हमारी परीक्षा लेने का मौका ही ना आए और हम सदैव हर परीक्षा के लिए तैयार रहे.

Friends किसी ने खूब कहा है की परीक्षाएं केवन इंसान को सही या गलत का आईना दिखती है, परीक्षा सत्य नहीं है, याने आप यदि किसी परीक्षा में फेल भी होगये तो यह न समझे की जिंदगी में फेल हो गए जीवन में परीक्षा एग्जाम सिर्फ एक पड़ाव के रूप में हमारे सामने आती है. हम कितनी भी पढ़ाई – लिखाई क्योना करले हमे किसी भी परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए पूरी सूझ – बुझ रखना बहुत जरूरी है, और फेल होने से कभी डरे नहीं Rejection कोई बुरी बात नहीं है.

तो दोस्तों आपको आज की ये post ” जीवन में परीक्षा का महत्व क्या है ” केसी लगी please हमे बताये और मै आशा करता हु, की आप अपने जीवन की हर परीक्षा में पास होते रहेंगे. और अपने कर्म अच्छे रखेंगे. जिससे आप पर सबको भरोसा रहे.

और दोस्तों आप इस post से Related अपने सुझाव हमे अपने Comments के माध्यम से भेज सकते है . हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा .

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.