होली खेलना क्यों ख़राब है

होली खेलना क्यों ख़राब है – दोस्तों हमारे लिए होली का त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. हम लोग इसे  बहुत हर्ष – उल्लास से  मनाते है. और होली रंगो का त्यौहार होता है. पर मित्रो आपको पता है की रंगो से हमे कितनी हानी होती है. तो आज में आपको इस post  में बताऊंगा की हम होली कैसे खेले और कैसे नहीं. और मैने आपके लिए पहले भी एक post लिखी है . “होली क्या है हम क्यों मनाते है ” आप उसे भी पड़े.होली खेलना क्यों ख़राब हैहम सब के लिए होली एक बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार है. और हम इसकी तैयारी बहुत दिनों पहले से ही करते है . बच्चो में होली का बहुत क्रेग होता है. बच्चे होली आने के पहले से ही उसकी तैयारी करने लगते है.

हिन्दुस्तान में होली का बहुत महत्व होता है. होली के दिन लोग अपने – गीले शिकवे मिटाते है. और सब से गले लगते है. और यह दिन कई मायनो में हमारे लिए महत्वपूर्ण होता है.

और सब से खास होली रंगो का त्यौहार होता है. हम इस दिन अपने दोस्तों, अपने करीबियों को रंग लगाते है. और दुश्मनो को भी लगा देते है.

पर दोस्तों आपको पता है की हम होली खेलते है तो क्या ये हमारे शरीर (Body) के लिए कितना सही है. आज के जमाने में आपने देखा होगा की कितने खराब रंग आते है सब केमिकल्स द्वारा निर्मित होते है. जो हमारे शरीर के लिए कितने खराब होते है.

होली खेलना क्यों ख़राब है”

Friends जब  हमारा  बचपन  था. तब हम भी होली खेलते थे. और उस समय हमारे खेतो में और गांव के आस – पास एक ऐसा पेड़ हुवा करता था. और जो आज भी है. की जिसका कलर बनता है. और हम उसके फूल तोड़ के लाते थे.

और घर में ही रंग बनाते थे जिससे होली खेलते थे. और उस रंग को किसी को भी लगाने से कोई side Effect  नहीं होता था. हम कितना भी रंग लगाए किसी को कोई हानी नहीं होती और सब हर्ष के साथ रंग लगाते थे और होली खेलते थे.

और आज की होली खेलना क्यों बुरा हो गया है. और मित्रो मैने देखा है, की पहले लोग किसी प्रकार का कोई नशा नहीं करते थे. सब शुद्ध सात्विक थे. और आज में देखता हु, की लोग होली के दिन नशा करते है. कोई शराब का तो कोई भांग का और हमे जीवन में नशे से बचना चाहिए.

लोग होली खेलने जाते है. तो अपने साथ दारू की बोतल भी लेके जाते है. और कई बार तो उनका आपस में झगड़ा  भी होता है . जिससे कई प्रकार की हानी होती है. तो क्या ऐसी होली खेलना सही है.

दोस्तों हमे होली का त्यौहार अच्छे से मनाना है. चाहे रंग लगाना होया लोगो को Enjoy करना हो सब काम limit  में करना चाहिए. जैसे रंग लगाने से Body को नुकसान होता है.

उसी प्रकार नशा करके होली खेलने से भी कई प्रकार के नुकसान होते है. हमे लोगो के साथ प्रेम और प्यार के रंगो की होली खेलना है. जो रंग ऐसे चढ़े की जीवन भर हमारा साथ निभाए. ऐसा नहीं की आज खेला और कल निकल गया.

किसी को अपने प्यार का रंग ऐसे लगाए की वो सारी जिंदगी उस पर चढ़ा रहे. हमे होली के त्यौहार को ऐसा बनाना है, की लोग डरे नहीं है आज के बच्चे तो मैने देखा होली से बहुत डरते है पर वो क्यों डरते है.

की ऐसे माहौल को देखकर उनको डर लगता है. तो हमे उनके मन से हर प्रकार का डर निकालना  है. और अच्छे से प्रेम और प्यार से होली मनाना है.

आज के दौर में होली खेलना बुरा हो गया है. पर हम इतिहास में भी देखते है. की भगवान कृष्ण के समय से ही होली मनाई जाती है.

और उस समय भी कितने प्रेम प्यार से सारे लोग एक साथ मिलकर याने पूरा गांव एक साथ मिलकर होनी मनाता था. सब लोग बच्चे बड़े आदमी, औरत सब एक साथ होली मनाते थे, खेलते थे और सब में प्यार बढ़ता था. और लोग एक दूसरे को मिठाईया खिलाते थे.

तो दोस्तों मेंरा आपसे अन्त में यही कहना है. की आप  अच्छे से होली मनाये अच्छे – अच्छे रंग लगाए और जहातक हो सके सूखे रंगो का उपयोग करे. और किसी प्रकार का नशा नहीं करे. नशे के लिए आप मेरी post शरीर को व्यसन (नशे) से बचाये पड़ सकते है. और अन्त में Happy होली.

तो दोस्तों आपको यह post  “होली खेलना क्यों ख़राब है” कैसी लगी please  हमे बताये. और में आशा करता हु, की आप अच्छे से अपने मित्रो अपने परिवार के साथ होली खेलेंगे. और होली खेलते समय किसी प्रकार की कोई गलती नहीं करेंगे. और सबको प्यार से रंग लगाएंगे.

जहातक हो सके सूखे रंग और गुलाल का ही इस्तेमाल करेंगे बाजार में मिलने वाले केमिकल के रंगो से जितना हो सके उतना बचेंगे और सब के साथ होली मनाएंगे.

और आप इस post से Related अपने सुझाव हमे Comments के माध्यम से भेज सकते है. हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.