हम विचलित क्यों होते है

हम विचलित क्यों होते है – दोस्तों विचलित या निराशा या अस्थिरता शब्द होता क्या  है आप  विचलित  होने  से  क्या  समझते  हो? आप  इसे  किस  प्रकार  परिभाषित  करेंगे. मेरे  हिसाब  से  तो  विचलित  होना  ये  है  की  इंसान  किसी  बात  को  लेके  अपने  मन  में  एक  प्रकार  की  टेंशन  रखले  और  दिनभर  उसी  के  बारे  में  सोचता  रहे और सारा दिन परेशान होता रहे.
हम विचलित क्यों होते हैउससे  इंसान  का  किसी  दूसरे  कामो  में  भी  मन  नहीं  लगता  और  उसी  विचलन  में  व्यक्ति दिनभर  परेशान  रहता  है. Friends  इस  दुनिया  में  कई  सारी  समस्याए  है. और  हर  इंसान  के  पास  समस्या  है. जिससे  हम  परेशान और निराश  होते  रहते  है.

हम  अपने  मन  में  किसी  एक  समस्या  के  लिए  ही  इतने  विचलित  हो  जाते  है  की  कुछ  और  कर  ही  नहीं  पाते. मित्रो समस्या  और  भी  बड़ी  हो  सकती  है. जो  अभी  हम  face कर  रहे  है  उससे लेकिन  हम  एक  छोटी  सी  समस्या   मे ही  इतने  उलझ   जाते  है  की  विचलित  रहते  है. और  यह विचलितता या अस्थिरता इतनी  बढ़ती  जारही  है, की  इससे  कोई  नहीं  बच  पारहा  है.

और इंसान की सबसे बड़ी समस्या यह है, की वह अपनी कमियों को देखते हुए परेशान होता रहता है, वो कभी अपनी या दुसरो की खुबिया नहीं देखता जिससे उसके मन में अच्छे संकल्प आये.

दोस्तों  आज  की  दुनिया  में  school के  बच्चो को  भी  मैने  देखा  है. उनसे  अगर  कुछ  पूछो  तो  वो  बोलेगे  की  भैया  बहुत  टेंशन  है. मुझे  ये – ये  काम  करना  है  में  बहुत  परेशान  हु,  तो  मतलब  इस  विचलन  से  बच्चे   भी  नहीं  बचपाते है.

और  हम  किसी  समस्या  के  बारे  मे  सोचकर  विचलित  होते  रहेंगे  तो  क्या  उससे  समस्या  solve  हो  जाएगी. बताइये  में  आपसे  पूछता  हु. या  वैसी  ही  बनी  रहेगी  केवल  अपने  शरीर  का  खून  ही  जलेगा  और  कुछ  नहीं  होगा  जो  होना  है  वो तो  होके  रहेगा  उसे  आप  और  हम  नहीं  बदल  सकते.

हम विचलित क्यों होते है”

मानलो  कोई  बच्चा  Exam  देके  आया  है और  उसके  बाद  result  के  बारे  में  सोच – सोच  के  विचलित याने परेशान होता  रहे  तो  क्या  इससे  उसका  result  बदल  जायेगा  नहीं  वोतो  जो  होना  है  वही  होगा तो हम  विचलित  क्यों  होते  है

इसी  प्रकार  जो  लोग  काम  करते  है  वो  भी  अपने  काम  के  बारे  में  सोचते  है  की  कुछ  काम  बिगड़  ना  जाये  जो  काम  बिगड़ना  होगा  उसे  बिगड़ने  से  कोई  नहीं  रोक  सकता  चाहे  आप  कितना  भी  प्रयास  क्यों  न  करले परेशान होते  रहे  इससे  उस  काम  पर  कोई  असर  नहीं  होगा  बस  अपना   ही  मन  खराब  होगा  और  जीवन  में  विचलन या अस्थिरता बढ़ती जाएगी. इसे भी जरूर पड़े – आप क्यों सोचते है परिणाम Result के बारे में

दोस्तों  भलेही  में  आपको  ये  ज्ञान  दे  रहाहु  पर  मेरे  में  भी  अभी  ये  फाल्ट  है  की  मेभी  छोटी – छोटी  बातो  पर  विचलत, परेशान हो  जाता  हु, दोस्तों  मुझे  भी  अभी  अपने  आप  में  इसका  सुधार  लाना  है  और  ये  बहुत  जरूरी  है. क्योकि  इससे  इंसान  समय  से  पहले  बूढ़ा  होने  लगता  है. आप  बोलोगे  की  कैसे?

में  बताता  हु,  आपने  कभी  किसी  ऐसे  आदमी  या  ओरत  को  देखा  जो  मानसिक  रूप  से  स्वस्त  नहीं  है.  लोग  उसे  पागल  बोलते  है  तो  आप  ऐसे  लोगो  को  देखो  इनका  शरीर  कितना  भरा – पूरा  रहता  है  ये  लोग  खाना  भी  ज्यादा  खाते  है.

और  ये  लोग  शरीर  से  भी  फिट  रहते  है. पर  आप  सोचिये  ये  इतने  फिट  कैसे  रहते  है  तो  उसका  एक  ही  कारण  है  वो  किसी  बात  की  टेंशन  नहीं  लेते  अपने  आपको  विचलित  नहीं  करते  इस  लिए  ये  लोग  स्वस्थ  और  ज्यादा  जीते  है. तो हमे भी किसी भी परेशानी में परेशान होने से बचना होगा.

तो  क्या  हम  जीवन  जीने  का  तरीका  इन  लोगो  से  नहीं  सिख  सकते  आप  देखिये  आज  कल  working वाले  लोगो  को  ज्यादा  बीमारिया  हो  रही  है. क्यों  की  हम  लोग  ज्यादा  विचलित  रहते  है. अपने  काम  के  प्रति  काम  की  टेंशन  इतनी  ही  ले  जितनी  जरूरत  है. और  आप  कभी  अपनी  फेमिली  और  अपने  काम  को  कभी  Mix ना करे. इसे भी जरूर पड़े – जीवन में परिवार का महत्व क्या है

और  दोस्तों  क्यों  ना  हम  इस  विचलन  या अस्थिरता से  बचने  के  लिए  कुछ  ऐसे  काम  करे  जिससे  हमे  टेंशन  ना  हो जैसे  हमे  positive सोचना  होगा  हम  अपने  काम  को  अपने  काम  तक  ही  सिमित  रखे  जीवन  में  तो  कदम – कदम  पर  समस्याएं  आएगी  और  हमे  उनका  सामना  करना  पढ़ेगा  केवल  हम  विचलित  होते  रहेंगे  तो  उससे  हमारी  समस्याएं  कम  या  खत्म  नहीं  होगी. इसे भी जरूर पड़े – जानिए वो 5 तरिके जो आपको Positive रखते है

और मैने ज्यादातर लोगो को देखा है, की लोग खुद से ज्यादा दुसरो से दुखी रहते है, अपने मन में जलन भावना रखते है. मित्रो हमे कभी किसी को देखकर विचलित या परेशान नहीं होना है अपना जीवन अच्छे से जीना है.

आप यदि किसी को आगे बढ़ते देखो तो उससे कुछ सिख लो की वो कीस तरह काम करके आगे बढ़ता जारहा है, और वह तरीका खुद भी सीखो ऐसे में आप भी अपने काम में आगे बढ़ते जायेंगे नाकि किसी की गलती निकालकर और अपनी गलती पर रोकर विचलित होते रहेंगे, आपमें यदि ऐसी आदत है तो उसे जरूर सुधारे.

तो  दोस्तों  आपको  ये post “हम विचलित क्यों होते है”  कैसी लगी और  में  आशा  करता  हु. की  मैने  आपको  जो – जो  भी  बाते  बताई  है, आप  उन्हें  अपने  जीवन  में  जरूर  follow करेंगे  और  किसी भी  प्रकार  की  टेंशन  से  बचेंगे.

और  आप  अगर  हमे  post से  related सुझाव  देना  चाहे  तो  हमे  Comments के  माध्यम  से  दे  सकते  है, हमे  आपके  comments का  इंतजार  रहेगा.

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.