Sardar Vallabhbhai Patel Quotes In Hindi

Sardar Vallabhbhai Patel Quotes In Hindi

दोस्तों में आज की इस post ” Sardar Vallabhbhai Patel Quotes In Hindi “ में आपको सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचारो को बताऊंगा , और क्या आप सरदार वल्लभभाई पटेल के बारे में जानते है की वो कोन है . और उनका हिंदुस्तान में क्या योगदान था .

 

दोस्तों में short में आपको बताता हु , की सरदार वल्लभभाई पटेल कोन थे ” सरदार वल्लभभाई पटेल ने हिंदुस्तान की आजादी के बाद पुरे देश में फैली हुई अलग – अलग रियासतों को जोड़ने का काम किया था उन्होंने strictly  एक लोकतंत्र का निर्माण किया था . जिसे आज भी हम देखते है .

 

Sardar Vallabhbhai Patel Quotes In Hindi:

 

तो आज हम इस post में देखते है ” Sardar Vallabhbhai Patel Quotes In Hindi ”

 

1 – आज हमे उच्च – नीच , अमीर – गरीब , जाती – पंथ के भेदभाव को समाप्त कर देना चाहिए

 

Also Read – महात्मा गाँधी के अनमोल विचार

 

2- आत्मा को गोली या लाठी नहीं मार सकती . दिल के भीतर की असली चीज इस आत्मा को कोई हथियार नहीं छू सकता .

 

Also Read – स्वामी विवेकानंद जी के 25 अनमोल विचार

 

3 – सत्ताधीशो की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है , पर महान देश भगतो  की सत्ता मरने के बाद काम करती है , अतः देशभक्त  अर्थात देश – सेवा में जो मिठास है , वह और किसी चीज में नहीं है .

 

Also Read – जवाहरलाल नेहरू के 15 अनमोल विचार

 

4 – पड़ोसी का महल देखकर अपनी झोपडी तोड़ देने वाला महल तो बना नहीं सकता , अपनी झोपडी भी खो बैठता है .

 

Also Read – Life में बातो को Ignore करना कैसे सीखे

 

5 – मेरा सपना है की भारत एक अच्छा उत्पादक देश बने ताकि इस देश में अन्न के लिए कोई भी आंसू ना बहाये .

 

Also Read – महानायक अमिताभ बच्चन

 

6 – अगर आपके पास शक्ति की कमी है. तो विश्वास किसी काम का नहीं क्योकि महान उद्देश्यों की पूर्ति के लिए शक्ति और विश्वास दोनों का होना जरूरी है .

 

7 – जब जनता एक हो जाती है तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शाशक  भी नहीं टिकता . अतः जात – पात के ऊँच  – नीच के भेदभाव को भूलकर सब एक हो जाइये .

 

8 – जीवन में आप जितने भी दुःखी और सुख के भागी बनते है . उसके पूर्ण रूप से जिम्मेदार आप खुद ही होते है . इसमें ईश्वर का कोई भी दोष नहीं .

 

9 – कठिनाई दूर करने का पर्यटन  ही ना हो तो कठिनाई कैसे मिठे . इसे देखते ही हाथ – पैर बांधकर बैठ जाना और उसे दूर करने का कोई भी प्रयास ना करना निरि कायरता है .

 

10 – कर्त्तव्यनिष्ठ पुरुष कभी निराश नहीं होता . अतः जब तक जीवित रहे और कर्तव्य करते रहे तो इसमें पूरा आन्नद मिलेगा .

 

11 – कल किये जाना वाला कर्म विचार करते – करते आज का कर्म भी बिगड़ जायेगा . और आज के कर्म के बिना कल का कर्म भी नहीं होगा , अतः आज का कर्म कर लिया जाये तो कल का कर्म स्वतः हो जायेगा .

 

12 – जैसे प्रसव वेदना के बाद राहत मिलती है , उसी प्रकार ज्यादती के बाद विजय होती है . समाज की बुराइयों  को दूर करनी के लिए इससे अधिक कोई शक्तिशाली हथियार नहीं .

 

13 – जितना दुःख भाग्य में लिखा है , उसे भोगना ही पड़ेगा – फिर चिंता क्यों ?

 

14 – चरित्र के विकास से बुद्धि का विकास तो हो ही जायेगा . लोगो पर छाप तो हमारे चरित्र की ही पड़ती है.

 

15 – कायरता का बोझ दूसरे  पड़ोसियों पर रहता है . अतः हमे मजबूत बनना चाहिए ताकि पड़ोसियों का काम सरल हो जाये .

 

 

तो दोस्तों ये थे सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार आपको कैसे लगे pliz हमे बताये और आगे भी हम समय – समय पर अन्य महापुरुषों के विचार लाते रहेंगे . और अगर आपके पास कोई सुझाव है. तो आप हमे comments के माध्यम से भेज सकते है हमे आपके comments का इंतजार रहेगा .

 

धन्यवाद

 

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.