क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है

क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है – दोस्तों आज ये post में आपके लिए Thoughtking पर लाया हु ,

जो बहुत ही ज्ञानवर्धक है और आपको बहुत पसंद आएगी.

 

क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है

दोस्तों जैसा हमारा  आज का Topic है , “क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है” तो आप इस Topic को देखकर क्या समझते है. की मै आपको क्या बताना चाहता हु , दोस्तों कुछ लोगो की ऐसी आदत होती है, की वो सामने वाले लोगो को  उनकी वेश – भूषा या उनके दिखने से ही पेहचान लेते है . की ये इंसान ऐसा होगा या ऐसा होगा मतलब उस इंसान के नेचर के बारे में भी उसको देखकर बता देते है.

 

पर दोस्तों मेरे हिसाब से तो ये सही बात नहीं है , जबतक हम किसी इंसान से बात नहीं करते उससे मिलते नहीं तब तक कैसे हम उसके बारे मै बता सकते है , की ये इंसान केसा है, की इसका वय्वहार केसा होगा या इस इंसान का नेचर केसा है, दोस्तों मेतो ये नहीं बता पाता किसी से मिले बगैर उसके बारे मै नहीं बता सकता .

 

दोस्तों जैसा आज मै और मेरा एक दोस्त मोटर – साइकिल से बैठ कर कही जारहे थे , और हमे रास्ते मै एक इंसान मिला रोड पे जाता हुवा , वो  इंसान दिखने मै थोड़ा गरीब था , उसने फ़टे कपड़े पहने थे , तो उसको देखकर मेरा दोस्त बोला अरे ये पागल जारहा है , क्या बोला उसने की पागल जारहा है .

 

तो क्या हम “क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है” पर मेरे दोस्त के ऐसे बोलने पर मुझे बढ़ा दुःख हुवा , की इसने किसी इंसान के वेश – भूषा और वो केसा दीखता हे उसको देखकर ही ये अनुमान लगा लिया की ये इंसान तो पागल है.

 

क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है

 

दोस्तों ये मेरे दोस्त कीही बात नहीं हे , इस दुनिया मै ऐसे कई लोग हे, जो ऐसी सोच रखते है, की इंसान को देखकर ही उसके बारे मै Comment करते है . और इंसान के बारे मै अनुमान लगा सकते है. पर मै आपसे पूछता हु, की क्या कोई इंसान गरीब हे

 

तो क्या वो पागल हे , उसे हम पागल बोलेगे. क्या गरीबो मै दिमाग नहीं होता क्या उनमे सोचने समझने की शक्ति नहीं होती है. उन्हें  अमीरों के बराबर शिक्षा नहीं मिलती पर क्या उनमे समाज का ज्ञान भी नहीं है. क्या वो इंसान नहीं है.

 

ऐसा नहीं है , गरीबो मै भी  इंसानियत होती है , उनमे भी दिमाग होता है, उनमे भी सोचने – समझने की शक्ति होती है , वो गरीब  हे तो क्या उनको भी भगवान ने अमीरों जैसा ही बनाया है . और दोस्तों गरीबो से ही मतलब नहीं है , मै हर उस इंसान की बात कर रहाहु, जिसे देखकर हम उससे मिले बिना उसके प्रति अपने मन मै उसके बारे मै गलत सोच लेते है . अपने हिसाब से उसके बारे मै सोच लेते है की ये इंसान ऐसा है.

 

“क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है” दोस्तों उसके लिए हमे उन लोगो से  मिलना  बात करना चाहिए जिनके बारे मै हम अपने मन मै negative सोच रख लेते  है , हमे उनसे मिलना चाहिए उनसे बात करना चाहिए और उनके साथ समय बिताना

 

चाहिए ताकी हम उनके बारे मै जान सके उनको समझ सके उनके बारे मै सही तर्क लगा सके और फिर हम  अपने जीवन मै कभी किसी के बारे मै अपने मन से कोई विचार नहीं लाये और ये तभी होगा जब हम किसी इंसान के साथ समय बिताएंगे नहीं  उसकी वेश – भूषा को देखकर .

 

Also Read – जीवन जीने की राह केसी हो

Also Read – हम अपने बच्चो को कैसे control करे

 

 

और दोस्तों ये दुनिया एक जैसी नहीं हे, ये तो आप जानते ही होंगे , मेरा मतलब है , की हर शेर का सवा शेर मिलता है , दोस्तों हम अपने आपको जैसा या जिस पोजीशन पे समझते है तो भगवान ने हमसे ऊपर भी कोई इंसान बनाया है , की जो हमारे बारे मै भी ऐसी सोच रखता  है .

 

की हम कैसे इंसान है . इसलिए हमे अपने पुरे समाज से ही इस सोच को निकलना होगा की इंसान केसा है. मतलब उसको देखकर नहीं पहचाने .

 

Also Read –क्या हमे अपने कर्मो पर भरोसा है

 

पर क्या आप जानते है. हमे कभी – कभी अपनी गलती पर पछताना भी पढ़ता है , जैसे मानलो आपने किसी इंसान के बारे मै ऐसी  सोच रखी अरे येतो दिखने मै ही बेवकूफ है, ये जीवन मै क्या करता होगा . और दोस्तों मै आपको बताता हु. की वो इंसान हमे कभी ऐसी पोजीशन पर मिल जाता है , जिससे  हमे अपनी सोच पर पछताना पढ़ता है . हमे वो इंसान किसी बैंक के मैनेजर के रूप मै मिल जाता है . या कोई और जगह तब हम कही के नहीं रहते.

 

Also Read –तरीका क्या है और सलीका क्या है

 

दोस्तों आज के इंसानो की ऐसी धारणा बन गयी है . की अगर किसी ने अच्छे कपड़े पहने है या सूट – बूट पहना है , अच्छी टॉय बाँधी है. तो वो इंसान बढ़ा ही intelligent है , भलेही उस दिखावे के अंदर केसा इंसान हे , और कभी – कभी ऐसा भी होता है की उस ड्रेस के अंदर बहुत ही बेवकूफ इंसान निकल जाता है . जिसे देखकर हम बाद मै पछताते हे.

 

तो यहा भी ये बात लागु होती है की ” क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है” जैसा किसी genteel men दिखने वाले के अंदर भी एक बेवकूफ हो सकता है. और उसी प्रकार एक गरीब से दिखने वाले इंसान के अंदर भी एक समझदार इंसान हो सकता है. अब हमारी नजरो का फेर है . हमे इंसान से मिलके उसको समझना है. की वो Real मै क्या है . और केसा है उसका नेचर .

 

और समाज से यह सोच तब हटेगी जब हर इंसान ये सोचना बंद करदेगा की सामने वाला इंसान केसा है , हम अपने हिसाब से किसी के बारे मै कोई सोच ना बनाये जिससे हमे बादमे बहुत पछताना पढ़े . और दोस्तों दुनिया मै हर इंसान ऐसा नहीं सोचते है कई लोग बहुत समझदार भी है .

 

जो इंसान को सोच – समझकर उसे परखकर उसके बारे मै निर्णय लेते है. की वो इंसान केसा है. और ऐसे इंसान सही मै बहुत समझदार होता है. वो दुनिया के तोर – तरिके को समझते  है , और दोस्तों मै आपसे कहु की हमे भी ऐसा बनना है, और किसी के बारे मै पहले से कोई सोच नहीं रखनी है.

 

तो दोस्तों आपको ये post “क्या हम इंसान को देखकर पहचानते है”. केसी लगी हमे जरूर बताये और मै आशा करता हु , की मैने जो आपको इस post मै बताया है, आप जरूर उन बातो को follow करेंगे और अपने जीवन की  सोच बदलेंगे. और दोस्तों आप इस post से related अपने सुझाव हमे देना चाहते है. तो हमे आप Comment कर के बता सकते है हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा.

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *