क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम

क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम

 

क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम – दोस्तों जैसा की आप सब जानते है , हमारे देश भारत को साफ करने की एक मुहीम चल रही है . जिसे स्वच्छ भारत के नाम से जाना जाता है .

 

और इस मुहीम की शुरुवात 2014  से हुई थी , भारत के तत्कालीन प्रधान मन्त्री ” श्री नरेंद्र मोदी ” ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया है . जो आज देश के कोने – कोने में पहुंच रहा है . और लोग भी जागरूक होरहे है . और सभी स्वछता की मुहीम को आगे बढ़ाने में देश का साथ दे रहे है .

 

दोस्तों हिंदुस्तान बहुत ही सभ्यतावो का देश है . क्या कई धर्म और कई जातीय है . इस देश को अविनाशी खंड माना जाता है . और यहा हर धर्म के अपने – अपने रितिरिवाज और अपने – अपने त्यौहार होते है . और जिसे जोग धूम – धाम से मनाते है . हर इंसान अपने त्योहारों की कई तरह से तैयारी करता है . और उन्हे विभिन्न रीतिरिवाजों के साथ मनाते है .

 

मगर दोस्तों होता क्या है . देश में अगर कोई भी धर्मिक या सामाजिक कोई भी कार्यक्रम होता है तो उसमे एक चीज बहुत कॉमन होती है . उसमे गन्दगी भी बहुत होती है , जैसे पंडाल सजाने पर उसके आस – पास कचरा होता है . जैसे मानलो कही भंडारा हो रहा है .

 

वह लोग खाना खाते है . पर जब वो कार्यक्रम निपट  जाता है , तो मैने देखा हर तरफ कचरा पढ़ा होता है . जैसे पत्तल , दोने पॉलीथिन  और कई जगह तो खाना भी गिरा होता है .

 

 

और यह चीज बहुत कॉमन हो गयी है . देश में हर जगह कुछ न कुछ programs  चलते रहते है . और उसके साथ ही वहापर गन्दगी भी होती है . और में यह भी नहीं कह रहा हु , की लोग सफाई नहीं करते थे , करते थे पर उस तरह की नहीं हो पाती  जिससे स्वच्छता बनी रहे .

 

और आपने देखा होगा की भारत में मूर्ति पूजा बहुत होती है , गणेशजी और दुर्गा पूजा में मूर्तियों की पूजा होती है , और जबतक त्यौहार चलता है तबतक तो ठीक है . पर जब त्यौहार खत्म होता है तो फिर मूर्तियों को पानी में बहाया जाता है , या समंदर में बहाया जाता है . और उससे भी पानी में गन्दगी होती है .

 

क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम:

 

और लोग मूर्ति के साथ और भी कई चीजे पानी में डालते है जैसे पूजा के कई सामान हार वगैरह और कई ऐसी चीजे भी होती है . जो कैमिक्ल से बनी होती है . सब को पानी में डाला जाता है .

 

तो उससे होता क्या था दोस्तों इस से पानी में गन्दगी फैलती थी . और नदिया तालाबों और समुन्द्र में गन्दगी फैलती थी . जिसका असर पिने के पानी पर भी पड़ता था . लोग उस पानी को पीकर  बीमार होते थे . और पानी खराब  होने की वजह से कई बीमारिया भी फैलती थी .

 

इसी लिए दोस्तों देश में स्वच्छता मुहीम चलाने की जरूरत पढ़ी जब देश में 2014  में सरकार बदली तो . प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी केबिनेट का पहला फैसला यही लिया की भारत में स्वच्छता की मुहीम चलाई जाएगी और उन्होंने स्व्च्छ भारत के नाम से अभियान शुरू किया जो देश में बहुत तेजी से चल रहा है , और हमे इस का असर भी देखने को मिल रहा है .

 

 

आज मेरा देश साफ दीखता है पर चार साल पहले ऐसा नहीं था . पहले जहा गन्दगी हुवा करती थी आज वहा हर जगह साफ – सफाई होती है . पहले लोगो में कोई जागरूकता नहीं थी सफाई के संबंध में मगर आज हर इंसान सुधर रहा है .

 

दोस्तों पहले लोगो को सफाई का मतलब ही नहीं पता होता था लोग कही भी थूक देते थे , कहि भी शौच करते थे . और खास  मजे की बात तो यह है की हमारे यहा लोगो को यह भी समझना   पड़ता था की खाने के पहले और शौच के बाद अपने हाथ धोना चाहिए . और वो भी लोगो ने अब सीखा है .

 

और क्यों पड़ी देश में यह  स्वच्छता मुहीम चलाने की जरूरत , क्योकि यहा लोग जहा तहा  कचरा फेकते थे . और सबसे शर्म की बात तो यह है की लोग गुटका खाते है . और जहा मर्जी हो वहा थूक देते है . चाहे रोड होया किसी की दीवार या कोई सार्वजनिक स्थल किसी को नहीं बक्शते थे .

 

दोस्तों पहले लोग अपने घर और अपने खुद को तो साफ रखते थे , पर देश को साफ  रखने की नहीं सोचते थे , मतलब जहा मर्जी हो वहा कचरा करते थे . और हर जगह गन्दगी करते थे  लोग सार्वजनि प्रॉपर्टी को सिर्फ सार्वजनिक ही समझते थे . कोई कही की साफ सफाई नहीं करता था लोग अपनी गली मुहल्ले तक को भी साफ रखने की नहीं सोचते थे .

 

दोस्तों शहरों के लोग तो ज्यादा पड़े लिखे होते है गावों की तुलना में पर पहले गांव से ज्यादा शहर गन्दा होता था . में शहर में जाता था , हम पहले रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन पर कुछ देर रहते थे . तो हमे उलटी होने लगती थी , दोस्तों स्टेशनों को शहर की सबसे ज्यादा गंदी जगह माना जाता था .

 

मगर आज ऐसा नहीं है जब से देश में स्वच्छता की मुहीम चलाई गयी है तब से लोगो ने उसे अपनाया है और अपने शहर को साफ किया है .

 

 

और दोस्तों में गांव का रहने वाला हु , पहले गावों में भी जगह – जगह गन्दगी होती थी . यहा पर लोगो  के घरो में शौचालय नहीं हुवा करते थे . लोग बाहर ही शौच जाते थे और उसमे महिलाये भी होती थी . महिलावो को भी बाहर ही जाना पड़ता था . उन्हें सुबहे जल्दी उठके बस एक जरूरी काम करना पढ़ता था .

 

और वह ये की शौच जाना होता था. कोई उठे  नहीं उसके पहले शौच जान पढ़ता  था . और आदमी भी बाहर ही जाते थे .

 

क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम

 

और दोस्तों बच्चे होते थे , बच्चो को तो घर के बाहर रोड पर ही बिठाया जाता था . और हम ने भी ऐसा किया हम भी हमारे बच्चो को घर के बाहर रोड पर ही शौच करवाते थे . तो इससे होता क्या था . इससे हर तरफ गन्दगी ही गन्दगी होती थी . गांव के आस – पास बदबू आती थी . और उससे मच्छर पैदा होते थे , और मच्छरों के काटने से बीमारिया फैलती थी .

 

मगर दोस्तों जब से देश में भारत की स्वच्छता मुहीम की शुरुवात हुयी तब से लोग सुधरने लगे है . और ऐसा नहीं की लोग एक दम से ही सुधर गए जब स्वच्छ भारत अभियान की शुरुवात हुई थी . तब कई लोगो ने इसका विरोध किया था . और सरकार ने भी लोगो को सुधारने के लिए कई प्रकार के नियम बनाये और जिससे धीरे – धीरे लोगो ने अपने अंदर सुधार किया . और स्वच्छता को अपनाने लगे .

 

 

अब गावों में भी हर घर में शौचालय बनने लगे है . जिन लोगो ने अपने जीवन में कभी शौचालय का उपयोग नहीं किया था . वो भी अब शौचालय का उपयोग कर रहे है , और देश की स्वच्छता की मुहीम में अपना योगदान दे रहें है . और सरकार इस काम में बहुत सफल भी हुयी है आज हर जगह साफ – सफाई नजर आती है .

 

गांव के आस – पास भी गन्दगी नहीं दिखती और अब बदबू भी नहीं आती . पहले ऐसी जगह आने पर लोग समझ जाते थे,.और अपनी नाक  दबा लेते थे , पर आज ऐसा नहीं है आप  गावों में कही भी घूम लीजिये आपको हर जगह सफाई मिलेगी .

 

और दोस्तों हमने ऊपर बात करी थी . की पानी में मुर्तिया खमाई जाती है . और उसमे पानी में गन्दगी बढ़ती है . पर उसमे भी अब सरकार ने सकती करदी है . अब ऐसे मोको पर सरकार ने कई तरह की वैकल्पिक व्यवस्था बनाई है . जैसे मूर्ति विसर्जन करने के लिए एक बढ़ा गड्डा किया जाता है , और उसमे पानी डाल कर उसमे मूर्ति विसर्जन करी जाती है .

 

और लोगो ने भी अपने देश को साफ करने के लिए इनको अपनाया है . वो भी इसमें सरकार का साथ देते है . और यही सही है . दोस्तों सरकार चाहे कितने भी नियम कायदे बनादे पर जबतक देश की जनता खुद नहीं सुधरेगी . तब – तक कुछ नहीं होगा .

 

आज हम जहा रहते है उसके आस – पास या अपने महुल्ले की सफाई की जिम्मेदारी हमे ही उठानी चाहिए , हम सोचते है की बाहर की सफाई की जवाबदारी नगर निगम की है हम क्यों करे तो यह सही नहीं है .

 

जब तक इंसान खुद नहीं सुधरेगा तब तक देश साफ नहीं हो सकता और आप को सारे देश की भी जिम्मेदारी नहीं उठानी है , आप बस जहा रहते है वही ध्यान दीजिये तो भी सफाई हो जाएगी . मैने देखा है , जब से देश में स्वच्छता की मुहीम चलाई गयी है तब से लोगो में बहुत सुधार आया है

 

सरकार ने जो नियम बनाये है लोग उनका पालन करते है .

 

Also Read – Swachh Bharat

 

दोस्तों पहले रोड पर डस्टबिन नहीं हुवा करते थे . मगर आज सरकार ने ऐसी व्यवस्था की है की शहर में हर जगह डस्टबिन रखवाए है . और पहले लोग कही भी कचरा फेकते थे , जहा मर्जी हो वहा मगर अब ऐसा नहीं होता , सब लोग प्रॉपर तरिके से कचरा डस्टबिन में ही डालते है . और अब तो मे देखता हु , की सूखा कचरा डालने की अलग व्यवस्था और गिला कचरा अलग डस्टबिन में डालते है .

 

Also Read – jivan me swachchhata ka mahatva जीवन में स्वच्छता का महत्व

 

पर दोस्तों आप मुझे एक बात बताइये की देश की सरकार जो ये मुहीम चला रही  है की भारत स्वच्छ बने तो इसका फायदा किसे  मिलेगा . क्या सरकार को इसका फायदा मिलेगा . या किसी और को नहीं , इसका फायदा हर देश वासी को मिलेगा . अगर गन्दगी नहीं होगी तो बीमारिया नहीं होगी और बीमारिया नहीं होगी तो हमारा doctor  का खर्च भी नहीं होगा .

 

Also Read – हम अपने देश को साफ कैसे करे

 

और दोस्तों हम जब प्रकृति को अच्छा रखेंगे . तो प्रकृति भी हमारा साथ देगी प्रकृति क्या है . ये नदिया समुन्द्र . ये मैदान सब प्रकृति का तो हिस्सा है . और जो हम इन्हे साफ स्वच्छ रखगे तो हमे कभी किसी चीज की कमी नहीं होगी . मानलो  आपको पिने के पानी की जरूरत है और आपके यहा एक तालाब है जिसमे हमेशा पानी भरा रहता है , मगर खास बात यह है की उस तालाब में बहुत गन्दगी है .

 

Also Read – Global Warming क्या है और इसको रोकने के उपाय क्या है

 

उसमे कूड़ा – कचरा और जाने क्या – क्या गिरा है , और लोग कुछ ना  कुछ डालते है . तो अगर आपको वो पानी पिने योग्य चाहिए तो आपको उस तालाब को साफ करना पड़ेगा और साफ करने के बाद उसे हमेशा   गन्दा होने से बचना पड़ेगा . तभी  हम उसका पाई पि पाएंगे .और ये जिम्मेदारी सरकार की नहीं है . ये उन लोगो की है जिनके आस – पास यह तालाब है और तालाब ही नहीं हर वो चीज जो गंदी होती है हमे उसे साफ करना है .

 

Also Read – हम क्यों दुखी रहते है उसके 10 कारण

 

दोस्तों देश ने भलेही स्वछता की मुहीम को लागु किया है , पर इसे सम्पूर्ण हमे ही करना है . अपने देश के हर कोने  को हमे साफ करना है . और इसके    लिए आपको ज्यादा कुछ करने की भी जरूरत नहीं है . आप बस इतना करिये की आप जहा रहते है बस उस जगह को गन्दा मत होने दीजिये . बाकि का काम खुद म खुद हो जायेगा

 

Also Read – भाषा क्या है जीवन में भाषा का क्या महत्व है

 

तो दोस्तों अब आप समझ ही गए होंगे की देश में स्वच्छता की मुहीम क्या है . और इसे शुरू करने की जरूरत क्यों पढ़ी . अगर हमारा देश स्वच्छ रहेगा तो सारी दुनिया में हमारे देश की इज्जत बढ़ेगी . और उसके साथ  – साथ हमारी भी इज्जत बढ़ेगी . और अन्त में बस एक बार फिर आपसे कहना चाहता हु , की आपभी स्वच्छता की मुहीम को अपनाइये और अपने देश को स्वच्छ बनाने में सरकार का साथ दीजिये .

 

तो दोस्तों आपको यह post  ” क्या है भारत की स्वच्छता मुहीम ” कैसी लगी pliz  हमे बताये और में समझता हु , की मैने यहा आपको जो – जो भी बाते बताई है . आप उनको जरूर follow  करेंगे . और हमेशा स्वच्छता को अपनायेगे . और स्वच्छता की आदत बनालेगे और एक बार जो आदत बन  जाती है , तो वो काम अपने आप ही होने लगता है .

 

और दोस्तों आप इस post  से Related  अपने कोई भी सुझाव हमे Comments  के माध्यम से भेज सकते है हमे आपके Comments  का इंतजार रहेगा .

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.