क्या आप कुऍ के मेंढक बने रहना चाहते है

क्या आप कुऍ के मेंढक बने रहना चाहते है – दोस्तों  जैसा  की  आज  की  हमारी  post का  में  point है  कुऍ  का  मेंढ़क  तो  आप  सब  जानते  ही  होंगे  की  क्या  होता  है  कुऍ  का  मेंढ़क  कई  लोग  बोलेगे  की  जो  मेंढ़क  कुऍ  में  रहता  है  उसे  कहते  है  कुऍ  का  मेंढ़क  पर  क्या  आप  सही  मायने  में  कुऍ  के  मेंढ़क  का  अर्थ  समझते  है  और  अगर  नहीं  समझते  तो  कोई  बात  नहीं  आज  में  आपको  इस  post के  माध्यम  से  कुऍ  का  मेंढ़क  क्या  होता  है  उसकी  पूरी  जानकारी  बताऊंगा  जिसे  पढ़  कर  आप  कुऍ  और  मेंढ़क  दोनों  के  बारे  में  details  में  समझ  जायेगे.क्या आप कुऍ के मेंढक बने रहना चाहते है Friends  जो  कुऍ  का  मेंढ़क  होता  है  वो  एक  कुऍ  में  ही  रहता  है  उस  मेंढ़क  के  लिए  उसकी  पूरी दुनिया  वही  कुवा  रहता  है  जिसमे  वो  रहता  है. मेंढ़क  समझता  है,  ये  दुनिया  सिर्फ  इतनी  ही  बड़ी  है  और  इस  कुऍ   के  बाहर  कुछ  नहीं  है  जोभी  कुछ  सब  यही  पर  है. और  एक  कुऍ  का  मेंढ़क  ऐसा  सोचते – सोचते  अपनी  सारी  जिंदगी एक  कुऍ  में  ही  काट  लेता  है  और  बिना  बाहर  की  दुनिया  देखे  एक  दिन  वो  उसी  कुऍ  में  अपना  दम  तोड़  देता  है.

और  दोस्तों  यह  कहानी  सिर्फ  एक  कुऍ  के  मेंढ़क  पर  लागु  नहीं  होती  ज्यादातर  ऐसा  ही  करते  है, और  मैने  यह  ज्यादातर  शब्द  का  use  इस  लिए  किया  क्योकि  कुछ  मेंढ़क  ऐसे  भी  होते  है. की  वो उस  कुऍ  से  निकल  कर  बाहर  की  दुनिया  में  चले  जाते  है  और  बाहर  की  दुनिया  देख  लेते  है  और  उसका  आनंद  लेते  है. क्योकि  भगवान  हर  किसी  को  अपनी  जिंदगी  बदलने  का  एक  मौका  जरूर  देते  है.

जैसे  कुऍ  के  अंदर  मेंढ़क  रहते  है, पर  पानी  निचे  होने  की  वजह  से  वो  कुऍ  से  बाहर  नई  निकल  पाते  मगर  एक  समय  ऐसा  भी  आता  है  जब  बारिश  होती  है  और  उस  समय  कुऍ  का  पानी  ऊपर  तक  आता  है. और  मेडक  के  पास  एक  वही  मौका  होता  है  की  जब  वो  कुऍ  के  बाहर  निकल  सकता  है.

क्या आप कुऍ के मेंढक बने रहना चाहते है”

दोस्तों  अब  हम  मुद्दे  की  बात  पर  आते  है,  हम  ने  अभी  तक  इस  post  में  कुऍ  के  मेंढ़क  के  बारे  में  जो  भी  उदाहरण  देखे  उनका  रियल  अर्थ  क्या  होता  है. मित्रो  कुऍ  के  मेंढ़क  से  मतलब  ऐसे  लोगो  से  है  जो  अपने  जीवन  में  कभी  आगे  बढ़ना  नहीं  चाहते  जो  सदैव  एक  ही  जगह  या  एक  ही  पोजीशन  पर  टिके  रहते  है  और  ना  ही  वहा  रहते  कोई  तरक्की  कर  पाते  है  और  न  उस  जगह  को  छोड़  पाते  है.

पर  ऐसे  लोगो  की  एक  और  आदत  होती  है  ये  अपनी  किस्मत  को  और  भगवान  को   हमेशा  कोसते  रहते  है. पर  जैसा  हमने  ऊपर  भी  देखा  की  भगवान  मेंढ़क  को  भी  कुऍ  से  निकलने  का  एक  मौका  अवश्य  देता  है.  उसी  तरह  हमे  भी  जीवन  में  अपनी  जगह  बदलने  का  मौका  हमारे  पास  आता है. पर  हम  उसे  भुना  नहीं  पाते  और  हमेशा  के  लिए  वही  रह  जाते  है.

Friends  कुऍ  के  मेंढ़क  बने  रहने  का  अर्थ  यह  होता  है  की  एक  केदी  की  जिंदगी  जैसे  हम  कोई  सजा  काट  रहे  है  और  उससे  बाहर  नहीं  निकल  पा  रहे  है. हम  में  से  कई  लोग  job करते  है  और  मैने  देखा  लोग  एक  ही  कम्पनी  में  अपने  जीवन  के  कई  साल  निकाल  देता  है  और  खास  बात  यह  की  कम  सेलेरी में  और  वहा  से  बाहर  निकलने  का  प्रयास  भी  नहीं  करते.

और  ऐसे  लोग  भी  अपनी  किस्मत  को  और  भगवान  को  कोसते  रहते  है  पर  खुद  कुछ  नहीं  करते, दोस्तों  में  आपको  एक  बात  बताता  हु,  मेरे  खुद  के  Experience  से  बताता  हु,  की  जो  भी  इंसान  अपने  करियर  में  एक  ही  जगह  पड़ा  रहता  है  जो  job वो  करता  है  अगर  वो  उसे  ही  दुनिया  की   सबसे  best  job समझता  है  तो  मित्रो  यह  सबसे  बड़ी  मूर्खता  है  क्योकि  जिसने  कभी  बाहर  की  दुनिया  को  देखा  ही  नहीं  उसके  लिए  तो  वही  पूरी  दुनिया  होती  है  जहा  वो  रहता  है.

पर  यदि  हम  वहा  पर  तरक्की  की  बात  करे  तो  वो  एक  दम  ना  के  बराबर  होती  है. दोस्तों  यह  बात  हर  तरह  के  काम  पर  लागु  होती  है  याने  Business  पर  भी  लागु  होती  है  पर  इसका  ज्यादा  असर  job  वालो  के  साथ  होता  है. कोई  इंसान  भलेही  कितने  भी  सालो  से  एक  जगह  रहकर  पूरी  ईमानदारी  से  job  करता  है  पर  समय  के  साथ – साथ  वहा  उसकी  इज्जत  और  कम  होती  जाती  है  और  उसकी  तरक्की  भी  रुक  जाती  है  और  यह  कुऍ  का  मेंढ़क  बने  रहने  का  सबसे  बड़ा  नुकसान  होता  है.

हर  इंसान  अपने  जीवन  में  यही  सोचकर  कोई   भी  काम  करता  है  की  उसे  जीवन  में  बहुत  तरक्की  मिले  वो  अपने  सारे  सपने  पुरे  कर  पाए  पर  इंसान  अपनी   ही  गलतियों  की  वजह  से  अपने  सपनो  को  पूरा  नहीं  कर  पाता  और  एक  कुऍ  का  मेंढ़क  बन  कर  रह  जाता  है .  और  मित्रो  इंसान  का  एक  ही  जगह  बने  रहने  का  एक  और  प्रमुख  कारण  है  और  वह  है  उसके  अंदर  का  डर  और  यही  डर उसे  जीवन  में  कभी  आगे  बढ़ने  नहीं  देता  और  वह  एक  ही  जगह  टिका  रहता  है.

जैसे  कोई  व्यक्ति  किसी  कंपनी  में  job  करता  है  और  वह  कई  सालो  से  job  कर  रहा  है  पर  जैसा  मैने  आपको  ऊपर  भी  बताया  की  हर  इंसान  को  किसी  न  किसी  रूप  में  कोई  ना  कोई  Opportunity  जरूर  मिलती  है  पर  कई  लोगो  के  मन  में  यह  डर  रहता  है  की  कही  मैने  यह  job  छोड़  दी  और  मुझे  दूसरी  job  नहीं  मिली  तो  फिर  में  क्या  करूंगा  मेरे  हाथ  में  तो  कुछ  नहीं  रहेगा  और  यही  डर  उसे  अपना  काम  नहीं  बदलने  देता  बदलना  तो  क्या  इंसान  प्रयास  करना  भी  बंद  कर  देता  है.

जो  व्यक्ति  15 साल  से  एक  ही  जगह  पर  जमा  हुवा  है,  वो  तो  सब  कुछ  भूल  जायेगा  बस  उसी  नौकरी  के  इर्द – गिर्द  घूमता  रहता  है  पर  मित्रो  जहा  तक  मुझे  याद  है.  की  इंसान  भी  एक  मेंढ़क  की  तरह  रहता  है  और  उसी  job  पर  पड़ा  रहता  है  और  आज  के  दौर  में  पुरानो  से  ज्यादा  नयो  की  सेलरी  और  वेल्यू  होती  है  और  पुराने  से  ज्यादा  नयो  को  इज्जत  मिलती  है.

पर  मित्रो  मै  आप  से  यह  कहना  चाहता  हु  की  यदि  आपको  अपने  सारे  सपने  पुरे  करना  है  अपनी  family को  एक  अच्छी  life देना  है  तो  जैसे  कुऍ  में  पानी  ऊपर  चढ़ता  है  तो  जो  समझदार  मेंढ़क  होता  है  वो  अपनी  Life बनाने  और  दुनिया  देखने  के  लिए  कुऍ  से  बाहर  निकल  जाता  है

उसी  प्रकार  आपके  कुऍ  में  भी  जब  पानी  ऊपर  आए  याने  आपकी  Working Life में  कोई  ऐसा  छण  आए  की  आपको  वो  job  छोड़ने  का  मौका  मिले  और  एक  नई  जगह  जाने  को  मिले  तो  आप  उस  मोके  को  कभी  ना  छोड़े  अपने  कुँए   से  दूर  निकल  जाये  और  बाहर  जाकर  देखे  बाहर  भी  दुनिया  बहुत  बड़ी  है  जो  आपने  अभी  तक  नहीं  देखि  जो  आपकी  इस  दुनिया  से  कही  ज्यादा  अच्छी  है  जिस  में  आप  अभी  तक  जीते  आए  है.

तो  दोस्तों  अन्त  में,  मै  आपसे  बस  इतना  ही  कहना  चाहता  हु,  अगर  किसी  मेंढ़क  को  कुऍ  से  बाहर  आना  होता  है  तो  वो  पानी  बढ़ने  का  इंतजार  नहीं  करता  धीरे – धीरे  कैसे  भी  दीवार  के  सहारे  ऊपर  चढ़ने  के  प्रयास  करता  है  और  एक  दिन  उसे  सफलता  मिल  भी  जाती  है. उसी  तरह  आप  भी  अगर  अपने  लिए  एक  batter  life  चाहते  है  तो  अभी  जो  Life  आप  जी  रहे  हो  उससे  बाहर  निकलने  का  प्रयास  करते  रहे  कभी  तो  आपको  भी  सफलता  मिलही  जाएगी.

अब  हम  कुछ  ऐसे  points  देखते  है  जिसमे  हमे  यह  पता  चलेगा  की  कुँए  का  मेंढ़क  बने  रहने  में  हमे  क्या  – क्या  नुकसान  है.

1 – हम  एक  ही  जगह  पर  बंदे  रह  जाते  है.

2 – हम  बाहर  की  दुनिया  के  बारे  में  नहीं  जान  पाते.

3 – हम  नई – नई  चीजे  नहीं  सिख  पाते.

4 – एक  मेंढ़क  जैसे  अपनी  जगह  का  पहलवान  होता  है, क्योकि  उसने  बाहर  की  दुनिया  नहीं  देखी  होती  है,  इसी  तरह  जो  इंसान  हमेशा  एक  ही  जगह  रहकर  काम  करता  है  वो  भी  अपनी  जगह  का  पहलवान  होता  है  क्योकि  उसने  कभी  Competition  नहीं  देखा.

5 – हमारी  मानसिकता  भी  छोटी  होती  जाती  है.

6 – एक  ही  जगह  रहने  से  इंसान  का  ज्ञान  भी  धीरे – धीरे  खत्म  होने  लगता  है.

7 – आप  केवल  एक  ही  जगह  का  Experience  ले  पाते  है.

8 – यदि  हम  एक  ही  जगह  टिके  रहते  है  तो  हमारी  इज्जत  और  तरक्की  दोनों  कम  होती  जाती  है.

9 – चाहे  job  हो  या  Business  या  दुनिया  का  कोई  और  काम  सब  में  बदलाव  बहुत  जरूरी  है  क्योकि  बदलाव  से  ही  इंसान  के  अंदर  Experience  आता  है  और  नई  चीजे  सिखने  को  मिलती  है.

10 – एक जगह टिके रहने वाले के जीवन में बदलाव नहीं होता.

तो  दोस्तों  ये  थी  post “क्या आप कुँए के मेंढक बने रहना चाहते है” आप  को  यह  post कैसी  लगी  pliz हमे  बताये  और  में  आशा  करता  हु  की  आप  भी  अगर  अभी  तक  कुँए  के  मंदक  बने  हुए  है  याने  अभी  तक  एक  ही  जगह  टिक  कर  काम  कर  रहे  है  तो  pliz आप  भी  कुँए  के  ऊपर  आ जाइये  याने  अपना  काम  change कर  दीजिये  और  आपने  लिए  कुछ  ऐसा  तलाश  कीजिये  जिसमे  आप  आपके  मन  के  मुअतबिक  सबकुछ  कर  सके.

आप  इस  post  से  संबंधित  अपने  कोई  भी  विचार  हमे  Comments  के  माध्यम  से  भेज  सकते  है.

4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.