कैसा था हमारा बचपन क्या आपको पता है

 

दोस्तों आज अगर हमसे कोई पूछे की कैसा था . हमारा बचपन तो आप क्या कहेगे पहले तो आप सोच में पढ़ जायेगे की क्या सवाल पूछ लिया . और मेरे ख्याल से आप भावुक भी हो सकते है . इस सवाल पर तो आज में आपको इस post  ” कैसा था हमारा बचपन क्या आपको पता है ” में बताऊंगा की हमारा बचपन केसा था .

 

और हमे क्या – क्या याद आता है .

 

दोस्तों मेरे ख्याल से इंसान की जिंदगी का सबसे अच्छा वक्त होता है .  उसका बचपन और हम हमारे बचपन को सारी  जिंदगी याद करते. इंसान अपनी जिंदगी का हर पल भलेही भूल जाये पर वो अपना बचपन कभी नहीं भूलता . क्योकि जो बचपन की यादे होती है , वो कभी भुलाई नहीं जा सकती .

 

हम कैसे बेफिक्र हो कर घूमते थे . कैसी किसी काम की कोई टेंशन नहीं होती थी  . जो चाहे वो कर सकते थे . हम हमारे मन के राजा हुवा करते थे दोस्तों के साथ खेलना उनके साथ समय बिताना सारा – सारा दिन बाहर घूमना होता था .

 

पर हम आज वो सब बाते  केवल सोच ही सकते है . हम वो जिंदगी फिर से दुबारा नहीं जी सकते . दोस्तों मै तो आपको मेरी बात बताता हु , की में सरकारी School  में पड़ा हु , और उस समय हम आज के बच्चो जितनी पढाई भीं नहीं करते थे , हमारी पढाई बहुत कम थी .

 

और School  मै भी बहुत मस्ती करते थे . और हमे उन दिनों आज के बच्चो इतना Home  Work  का भी Lode  नहीं होता था हम बड़े आराम से School  जाते थे . और पढ़ाई करते थे .

 

Also Read – सहयोग से ही सफलता मिलती है

 

पर दोस्तों हम आज जिंदगी मै कही भी पहुंच गए है हमे आज हमारा बचपन याद आता है. आज हम इतने बड़े होगये है . की ऐसा कोई भी काम नहीं करते  है . जो हम बचपन  मै करते थे . हम बचपन मै चलते – चलते किसी को भी छेड़ देते थे , कही भी पत्थर फेक देते थे . पर आज हम ऐसा नहीं कर सकते आज हमे समझदारी दिखानी पड़ती है .

 

Also Read – सफलता पाने में संयम क्यों जरूरी है

 

और कभी – कभी मेरा तो मन भी करता है की सब  काम का बोझ और परिवार की टेंशन को छोड़ कर फिर अपने बचपन मै लोट जाऊ  पर आज वो मै चाहकर भी नहीं कर सकता .

 

Also Read – हम विचलित क्यों होते है

 

आज हमारी जिंदगी मै इतनी रेस लगी है की हम हमारे लिए भी Time  नहीं निकाल पारहे है . बस दिन – रत कमाना और आगे बढ़ना दोस्तों हम कितने भी सफल क्यों ना हो जाये पर आज की ख़ुशी की तुलना अगर बचपन की ख़ुशी से करे तो बचपन की ख़ुशी कही  ज्यादा अच्छी होती है . और उसे हम सारी जिंदगी miss  करते है .

 

Also Read – भाषा क्या है जीवन में भाषा का क्या महत्व है

 

आज हमारे पास पैसा है गाड़ी है  . सब है फिर भी एक बेचैनी रहती है और बचपन मै नातो हमारी जेब मै पैसा था ना कोई व्यवस्था फिर भी हमे बहुत ख़ुशी मिलती थी हैं मजे से रहते थे .

 

Also Read – क्या आपको पता है की आप कहा रहते है

 

कैसा था हमारा बचपन क्या आपको पता है:

 

अब मै आपके लिए बचपन के दिनों  को याद दिलाने वाली एक कविता पेश करने जारहा हु , जो आपको बहुत पसंद आएगी .

 

“ बचपन के दिन याद आते है “ –

 

खाते – पीते सोते जगते सब व्यवहार निभाते है  ,

 

लेकिन हम सब दिन बचपन के याद करते है !

 

हर वक्त बीजी हम रहते है , ख्वाबो के महल बनाते है ,

 

लेकिन जीवन की दिन चर्या मै दिन बचपन के याद आते है !

 

वो मस्ती के दिन वो अल्हड़पन भुलाये भुला नहीं पाते है ,

 

अब भौतिकता की छाया है पर दिन बचपन के याद आते है !

 

पोखर ताल तलइया मै कूद – कूद कर नहाया करते थे ,

 

अब शावर मै नहाकर भी दिन बचपन के याद आते है !

 

कितनी मस्ती कितना मजा उस सूखेपन मै आता था ,

 

अब हरियाली की छाया मै भी दिन बचपन के याद आते है !

 

खेल कूद कबड्डी अम्मा की टोकाटाकी हड्डी तुड़वाकर घर आते थे ,

 

हमारा जीवन अब इतिहास बना है लेकिन दिन बचपन के याद आते है !

 

बिच मै चटनी मिर्ची को  रोटी मै दबाकर बचपन मै खाया करते थे ,

 

हाट पाट के खाने मै स्वाद नहीं वो आते है इसलिए बचपन के वो दिन याद आते है !

 

दोस्तों मै आप को बतादू इस कविता के लेखक  है मेरी ही Office  के सहयोगी ” श्री महेश चंद्र वर्मा ” !

 

और दोस्तों अन्त मै तो मेरा आप सब लोगो से यही कहना ही की हम सब का बचपन बहुत अच्छा था , और हम उसे वापिस जीना चाहते ही , तो मेरा उसके लिए एक उपाय है . की आप अपने बच्चो के साथ अपना बचपन जिए उनके साथ खेले वो जैसा करना चाहे वैसा करे .

 

तो दोस्तों आपको यह post  ” कैसा था हमारा बचपन क्या आपको पता है ” कैसी लगी pliz  बताये और मै आशा करता हु , की आप को के मेरी बाते जरूर अच्छी लगेगी और आप भी अपनी बचपन की यादो को फिर से ताजा करेंगे और उसी एनेर्गी के साथ जीवन मै आगे बढ़ते जायेगे .

 

और आप इस post से Related अपने विचार हमे Comments के माध्यम से बता सकते है . हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *