हम जीवन जीने की कला कहा से सीखे

hum jivan jine ki kala kha se sikhe

 

हम जीवन जीने की कला कहा से सीखे – दोस्तों आज हर आदमी या हर इंसान अपना जीवन जी रहा है . और ये कहु की इंसान क्या भगवान ने जिन भी जिव – जन्तुवो को बनाया है , वो सब अपना जीवन जीते जारहे है . तो आज मै आपको इस post  मै बताऊगा की हमे ऐसा  जीवन जीना चाहिए . जिससे हमे लोग याद करे मतलब हमे जीवन जीने की कला सीखना है .

 

दोस्तों आप आपके आस – पास कई प्रकार के लोगो को देखते हो , और उनमे से आप कुछ को पसंद करते हो और कुछ को आप पसंद नहीं करते हो , तो ऐसा क्यों है . आपके कई दोस्तों भी ऐसे होंगे जिनसे आप बात तो करते हो पर मन से शायद वो आपको अच्छे नहीं लगते . ऐसा क्यों होता है .

 

आपको यह बात मै बताऊ और जहा तक मेरा अनुभव है . उसमे मैने यह देखा है , की हम उन लोगो को पसंद नहीं करते जिनको सही तरिके से जीवन जीना नहीं आता यानी उनको जीने की कला नहीं आती , और ऐसा नहीं हर इंसान का हर इंसान को देखने का अलग नजरिया होता है .

 

मानलो हमे कोई इंसान पसंद नहीं है , तो ऐसा भी कोई इंसान होगा जो वो हमे पसंद ना करता हो . क्योकि  की हर इंसान अलग सोचता है , हर इंसान अलग – अलग नजरिये से देखता है .

 

और जीवन जीने की कला सीखना एक अलग बात है , यह आपके पढ़ाई – लिखाई पर डिपेंड नहीं है . की आपने 15  Class  पास करली तो आपने जीने की कला सिखली नहीं ऐसा नहीं है . आपको जीने की कला सिखने  के लिए . किसी तरह की पढ़ाई – लिखाई की जरूरत नहीं होती .

 

हम जीवन जीने की कला कहा से सीखे

 

उसके लिए तो सही मार्गदर्शक  और सही लोगो के साथ की जरूरत होती है . की जिनके साथ हम रहे और हमे भी ऐसे लोगो के गुण मिले जो जीवन जीने की कला को जानते हो .

 

दोस्तों अगर हमे सही मै जीवन जीने की कला सीखना है . तो हमे अनुभवी लोगो का साथ करना पड़ेगा ऐसे लोग जिन्होंने जिंदगी को सही तरिके से और हर प्रकार के सुख – दुःख को जिया है . और जिनके साथ रहने से हमारे मै उनके अनुभव के द्वारा कुछ ज्ञान आए . ताकी हम उनसे कुछ सीखे इंसान जैसी संगत मै बैठता है.

 

उसमे वैसे ही विचार वैसे ही गुण आते है . इसलिए हमे संगत ही ऐसे लोगो की करना है जिनसे हमे अच्छा ज्ञान मिले और हम उनसे कुछ सिख सके . और हम भी अपने जीवन मै आगे बढ़ सके .

 

जैसे आपने देश या दुनिया के महान लोगो के बारे मै सुना होगा जैसे आप महात्मा गाँधी के बारे मै जानते है . उनमे जीवन की कला केसी थी . की दुनिया उनके पीछे चलने लगी . स्वामी विवेकानंद भी जीवन जीने की कला जानते थे . और लोग उनके हिसाब से अपना जीवन जीते थे उनसे सीखते  थे . जीने का तरीका क्या होता है . और लोगो ने महान पुरषो को Follow  किया और उनके जैसा बनने का या उनके जैसा जीवन जीने का तरीका सीखा .

 

Also Read – जीवन जीने का तरीका क्या है

 

हमे ऐसे जीवन जीना है , की लोग हमे याद करे जैसे हम किसी महोल्ले मै रहते है तो अगर हम वहा ऐसी हरकते करते है की हम से सब लोग परेशान है या हमारे सामने नहीं हमारी पीठ पीछे हमारी बुराई करते है . तो हमे उन लोगो की सोच को बदलना होगा हमे ऐसे काम करना होंगे की लोग हमारे  बारे मै अच्छा सोचे . लोग हमारी पीठ पीछे भी हमारी तारीफ करे . की यह कितना अच्छा इंसान है यह सब का सम्मान करता है सबकी मदद करता है .

 

Also Read – हमें कुछ फैसले समय पर छोड़ना चाहिए

 

दोस्तों आप ज्यादा दूर नहीं जाये आप किसी School  teacher  के पास जाये और उनके साथ बैठकर कुछ समय बिताये . उनसे अच्छी बाते सीखे जो आपको जीवन मै काम आए . और जैसा मैने आपको ऊपर बताया की जीवन जीने के लिए किसी पढ़ाई की जरूरत  नहीं हमे अनुभव की जरूरत होती है .

 

Also Read – चापलूसी क्या है इससे कैसे बचे

 

ऐसा अनुभव जो हमे जीवन जीना सिखाये और ऐसे भी लोग है . जो हमे और निचे गिरा सकते है तो आप ऐसे लोगो से बचे और अच्छे लोगो के साथ बैठे उनके साथ समय बिताये और उनके गुणों को अपने अन्दर धारण करे .

 

Also Read – हम सफलता कैसे बनाये रख सकते है

 

जीवन जीने की कला कोई अपनी माँ  के पेट से नहीं सिख कर आता , यह तो इंसान को खुद ही सीखनी पढ़ती है . हां एक बात जरूर है – की इंसान अपने घर के माहौल से भी बहुत कुछ सीखता है जैसे कोई छोटा बच्चा है , और उसके सामने उसके घर मै रोज लड़ाईया होती है .

 

Also Read – Koshish ka phal कोशिश का फल

 

लोग  अच्छे से नहीं रहते तो वो भी बड़े होकर शायद यही करे . क्योकि वो बचपन से यह सब देखता आया है . इस लिए उसने यह सब सिख लिया पर ऐसा भी नहीं है कोई इंसान किसी भी माहौल मै रहा हो . अगर वो खुद को जैसा बनाना चाहे वैसा बना सकता है . उसे ऐसी संगत करना पढ़ती है , जिससे उसका जीवन सुधरे .

 

Also Read – Anubhav ka mehtav अनुभव का महत्व

 

तो दोस्तों अन्त मै मेरा आपसे बस यही कहना है , की हमे भी जीवन जीने की कला सीखना है . और लोगो के मन मै  अपने प्रति अच्छे विचार आए ऐसा बनना है . अच्छे लोगो को ही दुनिया याद करती है . चाहे वो जिन्दा हो या मर गए हो . और बुरे को जीते जी भी कोई याद नहीं करता है . इस लिए हमे जीवन को अच्छे से जीना है , और किसी के काम आए ऐसे काम करना है .

 

तो दोस्तों आपको यह post  कैसी लगी pliz  हमे जरूर बताये और मै आशा करता हु , की मेरे द्वारा बताई गयी बातो को आप जरूर Follow  करेंगे और आप अपने जीवन मै सदैव अच्छे काम करेंगे और लोगो से अच्छा व्यवहार करेंगे . की आपके पीछे भी आपकी कोई बुराई ना करे हमे ऐसा बनना है .

 

और आपके मन मै कोई इस post  संबन्धित कोई विचार है . तो आप हमे Comments  के माध्यम से बता सकते है .

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.