हमारे मन में negativity क्यों आती है

हमारे मन में negativity क्यों आती है – दोस्तों आज ये post में आपके लिए Thoughtking पर लाया हु,

जो बहुत ही ज्ञानवर्धक है. और आपको बहुत ही पसंद आएगी.

हमारे मन में negativity क्यों आती है

 

दोस्तों जैसा की आज की हमारी post का नाम है. ” हमारे मन में negativity क्यों आती है ” तो क्या आपको ये पता है. की आखीर negativity होती क्या है .

 

और ये इंसान के मन में क्यों आती है . और दोस्तों ये negativity हर इंसान के मन में आती है , आज कल इंसान को इतना मानसिक तनाव हो गया है की उसका मन विचलित होता है. और उसके मन में negativity आती है.

 

और हमारे मन में हमारे negativity क्यों आती है, उसके कई  कारण है.  हमारे मन में negativity पारीवारिक कारणों और फाइनेंशली कारणों से और भी किसी इंसान का कोई क्या दुःख होता है !  तो उसे सोच – सोच कर उसके मन में negativity आती रहती है .

 

और दोस्तों में आपको बताऊ इंसान भलेही अपने मन में कितनी भी negativity रखले पर जिस कारण वो परेशान है, या उसके मन में negativity आयी है. वोतो होना ही हे. चाहे आप कितनी भी negativity  करले या कितना भी टेंशन लेले.

 

हमारे मन में negativity क्यों आती है

 

और ये मेरा निजी उदाहरण  हे जो में आपको बताता हु, की मेरे भी मन में बहुत सारी negativity  आती है . और negativity  आने का सबसे बड़ा कारण है. की जब इंसान खाली हो , तो मै भी जब खली होता हु , तो मेरे मन मै negativity आती है .

 

Also Read – परिस्तिथि को अपने पक्ष में कैसे करे

Also Read – क्या हम गधे से दोस्ती रखते है

Also Read – सुबहे जल्दी क्यों उठना चाहिए

Also Read – life में शिक्षा कैसे मिले

Also Read – चापलूसी क्या है इससे कैसे बचे

 

और जब मेरा कोई काम अटका होता है. या कोई मुझे पैसे संबंधित समस्या  होती है. या पारीवारिक कोई समस्या होती है . या job से related कोई problem होती है . तो उस समय मेरे मन मै भी negativity आती है . और मै भी पूरा negativity से घिर जाता हु , और उस समय दिमाग कुछ और नहीं सोचता बस उन्ही ख़यालोमे उलझता रहता है.

 

और negativity  के कारण अपना मन जलता रहता है, और कभी – कभी तो ये इतनी बढ़ जाती है की सीने मै दर्द होने लगता है. हमे negativity  के कारण रात मै नींद भी नहीं आती है . इंसान बहुत ही ज्यादा परेशान  हो जाता है.

 

और दोस्तों दुनिया का इंसान इतना परेशान है की उसे दुसरो के सुख – दुःख देख कर भी उसके  मन मै negativity आती है . और वो दुसरो के सुख – दुःख से ही परेशान होते रहते है.

 

अगर किसी कॉलिक का प्रमोशन हो जाये या किसी पड़ोसी का कुछ फायदा हो जाये या अपने दोस्त या दुश्मन का उच्च फायदा हो जाये तो इन कारणों से भी इंसान के मन मै negativity आती है, और हमारे मन में negativity क्यों आती है.

 

इसके ये तो उदाहरण है और भी दुनिया मै कई उदाहरण है जो आपने भी देखे होंगे और खुद का भी अनुभव लिया होगा.

 

लेकिन दोस्तों मै आपसे कहु अगर हमे स्वस्थ और मन से सुखी रहना है तो हमें इस negativity  से बचना होगा कोई भी हो किसी का भी फायदा या नुकसान हो रहा है . हमे उसमे अपना दिमाग नहीं लगाना है .

 

और अपने मन को पवित्र रखना है . हमे अपने मन मै ये भावना रखनी है, की भगवान सब का फायदा करे और सब सुखी रहे हमे किसी दुःख या टेंशन को अपने मन मै और अपने दिमाग मै स्थिर नहीं रखना है.

 

हमारी  जिंदगी मै हर तरह की समस्याएं हर तरह के दुःख आते है. और जीवन परियन्त तक आते रहेंगे  तो इन बातो के लिए हमे हमारा जीवन क्यों खतरे मै डालना है . मतलब लोग बोलते है .

 

अगर किसी को कितना भी खिला  दो कितना भी भलेही घी की कढ़ाई मै उतार दो पर जब तक उसके मन मै चिंता रहेगी उसका शरीर ठीक नहीं रहेगा . और कोई इंसान अपने मन मै किसी भी तरह की negativity नहीं आने देता तो वो भलेही सुखी रोटी ही क्यों ना खाता हो उसका शरीर Fit रहेगा और उसका मन और दिमाग भी fress रहेंगे .

 

तो दोस्तों आप जरूर समझे होंगे की ” हमारे मन में negativity क्यों आती है ” और आप इनबातों का ख्याल रखे और किसी प्रकार का स्ट्रेश ना ले और मै आपको फिर बताता हु.

 

की हम जिस भी काम के लिए अपने मन मै negative thought चलाते है. या negativity हमारे मन मै रखते है. वो काम जैसा होना है और जब होना है तभी होगा हम उसका कोई टेंशन  नाले सब प्रभु के हाथ मै छोड़ दे.

 

तो दोस्तों आपको ये post ” हमारे मन में negativity क्यों आती है ” केसी लगी pliz हमे बताये और मै आशा करता हु, की मैने आपको इस post मै जो – जो भी  बाते बताई है. आप उन्हें जरूर follow करेंगे  . और आप इस post से related अपने सुझाव हमे Comments के माध्यम से बता सकते है . हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा.

 

धन्यवाद

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.