हनुमान जयंती का महत्व

 

हनुमान जयंती का महत्व –   दोस्तों आज हम हनुमान जयंती के बारे में जानकारियां देखेंगे की यह क्या है . और हनुमान जयंती क्यों मनाई जाती है .

 

दोस्तों क्या आप जानते है , की हनुमान जी को महाकाल के 11  वे रूद्र अवतार है . जिनकी विधिवत उपासना करने से सभी बधावो का नाश होता है . मनुष्य के सर्व कष्टो अर्थात नौकरी , व्यापर  में बाधा एवं रोगो का निवारण भी हनुमानजी  के पाठ  से होता है  .

 

दोस्तों ऐसा कोई भी कार्य नहीं है . जो हनुमानजी अपने भक्तो के लिए ना कर सके , बस  आवश्यकता है . सच्चे मन से उन्हें याद करने की . और इस हमुमान जयंती हनुमानजी को हमे प्रसन्न  करना है . जिससे हनुमानजी हमारे सारे कष्ट और सारी पीड़ाये दूर करेंगे.

 

हनुमान जयंती का महत्व:

 

हनुमानजी का जन्म –

दोस्तों हनुमानजी का जन्म आप जानते हे . कैसे हुवा , माना जाता है . माता अंजनी के उदर से हनुमानजी पैदा हुए . उन्हें बड़ी जोर से भूख लगी हुई थी . इसलिए वे जन्म लेने के तुरंत बाद आकाश में उछले और सूर्य को फल समझकर खाने की और दौड़े उसी दिन राहु भी सूर्य को अपना ग्रास बनाने को आया हुवा था .

 

लेकिन हनुमानजी को देखकर उन्होंने इसे दूसरा राहु समझ लिया. तभी इंद्र ने पवनपुत्र पर वज्र से प्रहार किया जिससे उनकी ठोड़ी  पर चोट लगी व उसमे टेड़ापन आ गया इसी कारण उनका नाम भी हनुमान पड़ा . इस दिन चैत्र माह की पूर्णिमा  होने से इस तिथि को हनुमान जयंती के रूप में माना जाता है .

 

हनुमान जयंती पर हनुमानजी को कैसे प्रसन्न करे –

हनुमानजी भगवान शिव  के 11 वे अवतार माने जाते है . और वानर देव के रूप में इस धरती पर राम भक्ति और राम कार्य सिद्ध करने के लिए अवतरीर हुए . दोस्तों जैसा की आप जानते है , की हनुमानजी बालब्रह्मचारी  है .

 

दोस्तों हनुमान जयंती पर हम कैसे हनुमानजी की पूजा करे में आपको बताता हु .

 

1 – नुमान मंदिर में इस दिन एक सरसो के तेल का और एक शुद्ध घी  का दीपक जलाये और हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करते हुए परिवार के लिए मंगल कामना  करे .

 

2 – मंगलवार को हनुमान जी पर गुलाब की माला चढ़ाये हनुमान जी को खुश करने का सबसे सरल उपाय है .

 

3 –  इस दिन भक्त लोग सुबह जल्दी उठ कर नहा धोकर हनुमानजी के मंदिर में उनके दर्शन के लिए जाते है .

 

4 –  इस दिन सारे देश के हनुमान मंदिरो में भंडारे होते है . और लोग भी अपनी श्रध्दा से दान  चढ़ाते है .

 

 Also Read – राम नवमी का महत्व in hindi

 

5 –  हनुमान जी हर बुरी शक्ति का नाश कर हर काम में आगे बढ़ने में मदद करने वाले है . इस दिन मंदिर जाये तो हनुमानजी को सिन्दूर , लड्डू और बूंदी प्रसाद चढ़ाए . केसरिया रंग के रंग वे वस्त्र भी भगवान को अर्पण कर सकते है .सच्चे मन और पूरी श्रद्धा से सभी के लिए प्राथना करे .

 

Also Read – नवमी का महत्व

 

दोस्तों हम भी गांव के रहने वाले है , और हमारे यहा भी बड़े ही धूम – धाम से हनुमान जयंती मनाई जाती है . हमारे गांव में जो हनुमान मंदिर है , वहा पर सभी हनुमान भक्त सुबहे से ही भगवान के दर्शन करने के लिए आते है . और इस दिन सभी गांव वासी आपस में सहयोग करके  भंडारा करवाते है .

 

Also Read – नवरात्रि क्या है

 

और दोस्तों आपको पता है , हनुमान जयंती के दिन जो भंडारे होते है . उसमे 56  भोग लगता है . और इस प्रसाद को खाने का भी बहुत महत्व होता है . वो लोग बड़े किस्मत वाले होते है , जिनको  भंडारे की प्रसाद खाने को मिलती है . और लोग अपने घरो से विशेष रूप से मंदिर में जाते है और भंडारे में प्रसाद ग्रहण करते है . इस प्रसाद को ग्रहण करने से शरीर की कई प्रकार की बीमारिया भी दूर होती है .

 

Also Read – दिवाली क्यों मनाते है

 

तो दोस्तों कैसी लगी आपको यह post  ” हनुमान जयंती का महत्व ” हमे जरूर बताये और मेरा आपसे यह कहना है , की आप जो भी काम करते है उसमे से कुछ समय निकाले और थोड़े time  हनुमानजी के मंदिर में जाये . वहा उनकी सेवा में कुछ समय बिताये . जिससे आपके मन में शांति मिलेगी और ज्यादा नहीं तो आप अपने हिसाब से हनुमान जयंती के उपलक्ष्य में सहयोग करे .

 

Also Read – गरबा क्या है

 

और आप इस post के संबंध में हमे अपने Comments  भी भेज सकते है . आप के पास अगर हनुमान जयंती से संबंधित कोई जानकारिया हे , तो आप हमसे share  कर सकते है .

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *