गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotes

गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotes  – दोस्तों इस दुनिया को अपने महान विचारो से नया रास्ता दिखाने वाले भगवान गौतम बुद्ध भारत के महान दार्शनिक, वैज्ञानिक, धर्मगुरु, एक महान समाज सुधारक और  बौद्ध धर्म के संस्थापक थे. दोस्तों दुनिया आज भी उनके बताये गए ज्ञान और आदर्शो पर चलती है  गौतम बुद्ध की शादी यशोधरा के साथ हुई. और इस शादी से एक बालक का जन्म हुवा था. जिसका नाम राहुल रखा था. लेकिन विवाह के कुछ समय बाद गौतम बुद्ध ने अपनी पत्नी और बच्चे को त्याग दिया था.गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotesमित्रो गौतम बुद्ध संसार को जन्म, मरण और दुखो से मुक्ति दिलाने के मार्ग की तलाश व सत्य दिव्य ज्ञान की खोज में रात के समय अपने राजमहल से जंगल की और चले गए थे. और बहुत सालो की कठोर साधना के बाद बोध गया (बिहार) में बोधी वृक्ष के निचे उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और वे सिद्धार्थ गौतम से जो उनका नाम था गौतम बुद्ध बन गए.

संक्षिप्त में गौतम बुद्ध का परिचय –

नाम  –  सिद्धार्त गौतम बुद्ध

जन्म –  563  ईसा पूर्व लुम्बिनी, नेपाल

मृत्यु  –  483  ईसा पूर्व कुशीनगर, भारत

शादी  –  राजकुमारी यशोदरा

बच्चे  – एक पुत्र, राहुल

पिता का नाम – शुद्धोदन (एक राजा और कुशल शासक)

माता का नाम – माया देवी (महारानी)

बौद्ध धर्म की स्थापना  –  चौथी शताब्दी के दौरान

दोस्तों आप जानते ही है, की आज पुरे विश्व में करीब 190 करोड़ बौद्ध धर्म के अनुयायी है. और बौद्ध धर्म के अनुयायी लोगो की संख्या विश्व में 25 % है. एक सर्वे के अनुसार इसमें – चीन, जापान, वियतनाम, थाईलैंड, मंगोलिया, कम्बोडिया, भूटान, साऊथ कोरिया, होंग – कोंग, सिंगापूर, भारत, नेपाल, इंडोनेशिया, अमेरिका और श्रीलंका आदि देशो में आते है. जिसमे भूटान, श्रीलंका और भारत में बौद्ध धर्म के अनुयायी ज्यादा संख्या में है.

गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotes”

दोस्तों अब हम इस post  में महात्मा गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotes देखेंगे जो उन्होंने दुनिया को दिए है, और जिन्हे पढ़ कर हम भी उनसे बहुत कुछ सीखेंगे.

 

1 – धैर्य महत्वपूर्ण है, याद रखिये: एक जग बूँद – बूँद करके भरता है.

 

2 – हर मनुष्य अपनी सेहत और बीमारी का रचियता है.

 

3 – यदि हम स्पष्ट रूप से एक फूल के चमत्कार को देख सके, तो हमारा जीवन बदल जायेगा.

 

4 – ख़ुशी उन तक कभी नहीं आएगी जो उसकी सराहना नहीं करते जो उनके पास पहले से मौजूद है.

 

5 – शांति अंदर से आती है, इसे बाहर मत खोजो.

6 – इस तिहसे सत्य को सभी को सिखाओ: एक उदार दिल, दयालु भाषण, तथा सेवा और करुणा का जीवन, ये वो चीजे है जो मानवता को नवीनीकृत करती है.

 

7 – आप चाहे जितने पवित्र शब्द पढ़ ले, चाहे जितने बोल ले, वे आपका क्या भला करेंगे यदि आप उनपर कार्य नहीं करते.

 

8 – आप तब तक उस मार्ग पर नहीं चल सकते जब तक आप खुद वो मार्ग नहीं बन जाते.

 

9 – अगर आप किसी और के लिए दीपक जलायेगे, तो वो आपका भी मार्ग प्रकाशित करेगा.

10 – सारे गलत काम मन की वजह से होते है. यदि मन को बदल दिया जाये तो क्या गलत काम रह सकते है.

 

11 – जीवन में एकमात्र वास्तविक असफलता  आप जो सर्वश्रेष्ठ जानते है, उसके प्रति सच्चे होना.

 

12 – किसी चीज पर यकीन मत करो, ये मायने नहीं रखता की आपने उसे कहा पढ़ा है, या किसने उसे कहा है, कोई बात नहीं अगर मेने ये कहा है, जब तक की वो आपके अपने तर्क से मेल नहीं कहती.

 

13 – एक कुत्ता इसलिए अच्छा नहीं समझा जाता क्योकि वो अच्छा भोंकता है. एक व्यक्ति इस लिए अच्छा नहीं समझा जाता क्योकि वो अच्छा बोलता है.

 

14 – सभी प्राणियों के लिए दया – भाव रखे, चाहे वो अमीर हो या गरीब, सबकी अपनी पीड़ा है. कुछ बहुत अधिक भुगतते है, तो कुछ बहुत कम. 

 

15 – आकाश में, पूर्व और पश्चिम का कोई भेद नहीं है, लोग आपने विचार  से भेद पैदा करते है, और फिर उनके सही होने पर यकीन कर लेते है.

16 – एक मोमबत्ती से हजारो मोमबत्तिया जलाई जा सकती है, और उस मोमबत्ती का जीवन घटता नहीं. ख़ुशी कभी भी बाटने से घटती नहीं है.

 

17 – एक भिक्षुक जिस भी चीज के पीछे अपने सोच – विचार से लगा रहता है, वही उसकी जागरूकता का झुकाव बन जाता है.

 

18 – झूठ बोलने से बचना अनिवार्य रूप से पथ्य है.

19 – यदि आप दिशा नहीं बदलते है तो सम्भवत: आप वही पहुंच जायेगे जहा आप जारहे है.

 

20 – क्रोध को बिना क्रोधित हुए जीतो, बुराई को अच्छाई से जीतो, कंजूसी को दरियादिली से जीतो, और असत्य बोलने वाले को सत्य बोलकर जीतो.

 

21 – शब्द बहुत अच्छी तरह से विचार व्यक्त नहीं करते, हर चीज तुरंत थोड़ा अलग हो जाती है, थोड़ा विकृत हो जाती है, थोड़ा मूर्खता पूर्ण हो जाती है.

 

22 – चंदमा की तरह, बादलो के पीछे से निकलो! चमको.

 

23 – एक तेज धार चाकू  की तरह जीभ…. बिना खून बहाये मार देती है.

 

24 – अगर देने  की ताकत के बारे में आप भी वो जानते जो मै जानता हु, तो आप एक बार का भी भोजन किसी तरह से साझा किये बिना नहीं जाने देते.

 

25 – जिस छन आप सारी सहायता अस्वीकार कर देते है, आप मुक्त हो जाते है.

26 – जो क्रोधित विचारो से मुक्त है, उन्हें निश्चय ही शांति प्राप्त होगी.

 

27 – तुम अपने क्रोध के लिए दंड नहीं पावोगे, तुम अपने क्रोध के द्वारा दंड पावोगे.

 

28 – अपना ह्रदय अच्छी चीजे करने में लगाओ. इसे बार – बार करो और तुम प्रसन्नता से भर जाओगे.

29 – पानी से सीखो: नदी शोर मचाती है, लेकिन महासागरों की गहराई शांत होती है.

 

30 – भुत पहले ही बीत चूका है, भविष्य अभीतक आया नहीं है. तुम्हारे लिए जीने के लिए बस एक ही समय है आज.

 

31 – क्रोध को पाले रखना खुद जहर पीकर दूसरे के मरने की अपेक्षा करने में समान है. 

 

32 – जो आप सोचते है, वो आप बन जाते है. जो आप महसूस करते है, उसे आओ आकर्षित करते है. जिसकी आप कल्पना करते है, उसका आप निर्माण करते है.

 

33 – ध्यान से ज्ञान प्राप्त होता है, ध्यान की कमी अज्ञानता लाती है. अच्छी तरह जानो क्या तुम्हे आगे ले जाता  है,  और क्या तुम्हे रोके रखता है, और उस मार्ग को चुनो जो बुद्धिमत्ता की और ले जाता है.

 

34 – तुम्हारा शरीर कीमती है, यह हमारे जागृति का साधन है. इसका ध्यान रखो.

 

35 – क्रोध कभी नहीं जायेगा  जब तक की क्रोध के विचारो को मन में रखा जायेगा. जैसे ही क्रोध के विचारो को भुला दिया जायेगा वैसे ही क्रोध गायब हो जायेगा.

36 – यदि आप पर्याप्त शांत है, तो आपको ब्रह्माण्ड का प्रवाह सुनाई देगा. आप उसकी ताल महसूस कर पाएंगे. इस प्रवाह के साथ आगे बढिये. आगे प्रसन्नता है. ध्यान महत्वपूर्ण है.

 

37 – तुम्हारा सबसे बड़ा शत्रु तुम्हे उतना नुकसान नहीं पहुंचा सकता जितना की तुम्हारे खुद के बेपरवाह विचार. लेकिन एक बार काबू कर लिया जाये तो कोई तुम्हारी इतनी मदद भी नहीं कर सकता, तुम्हारे माता – पिता भी नहीं.

 

38 – अगर किसी के विचार गंदे है, अगर वह लापरवाह है, और धोखे से भरा हुवा है, तो वह पिले वस्त्र  कैसे धारण कर सकता है? जो कोई भी अपनी प्रकृति का स्वामी है, उज्ज्वल, स्पष्ट और सत्य है, वह वास्तव में पिले वस्त्र धारण कर सकता है.

 

39 – स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है, संतोष सबसे बड़ा धन है, वफादारी सबसे बड़ा संबंध है.

 

40 – जैसे मोमबत्ती किसी आग में नहीं जल सकती, मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता.

 

41 – आप केवल वही चीज खोते है, जिससे आप चिपक जाते है.

 

42 – हर सुबह हम पुनः जन्म लेते है, हम आज क्या करते है यही सबसे अधिक मायने रखता है.

 

43 – शरीर को अच्छी सेहत में रखना हमारा कर्तव्य है, नहीं तो हम अपना मन मजबूत और स्पष्ट नहीं रख पाएंगे.

 

44 – बिना सेहत के जीवन जीवन नहीं है, बस पीड़ा की एक स्थति है – मोत की छवि है.

 

45 – हमे हमारे सिवा कोई और नहीं बचाता, ना कोई बचा सकता है, और ना कोई ऐसा करने का प्रयास करे. हमे खुद ही इस मार्ग पर चलना होगा.

 

46 – हर चीज पर संदेह करो, स्वयं अपना प्रकाश ढूंढो.

 

47 – बुराई होनी चाहिए ताकि अच्छाई उसके ऊपर अपनी पवित्रता सावित कर सके.

 

48 – सत्य के मार्ग पर चलते हुए कोई दो  ही गलतिया कर सकता है, पूरा रास्ता ना तय करना, और इसकी शुरुवात ही ना करना.

 

49 – ख़ुशी अपने पास बहुत अधिक होने के बारे में नहीं है, ख़ुशी बहुत अधिक देने के बारे में है.

 

50 – अगर आप वास्तव में स्वयं से प्रेम करते है, तो आप अभी भी किसी को ठेस नहीं पहुंचा सकते.

तो दोस्तों यह थे “गौतम बुद्ध के अनमोल विचार Quotes ” में समझता हु, इस पोस्ट को पढ़ कर आप अपने जीवन में जरूर धारण करेंगे और गौतम बुद्ध के विचारो से अपना जीवन श्रेष्ठ बनायेगे आप अपने लिए एक अच्छा और एक बेहतर जीवन चुने जिससे लोग आपसे कुछ सीखे जिस तरह हम गौतम बुद्ध से सीखते है आप सदैव दुनिया के सामने अच्छा व्यवहार और अच्छी मिसाल पेश करे दोस्तों दुनिया भी उसे ही याद करती है जिसने अपने जीवन में संघर्ष करके कुछ हासिल किया और दुनिया को कुछ देकर गया आप भी इस पोस्ट से कुछ सीखे और सबको सिखाये. 

और आप इस post  से संबंधित अपने विचार हमे Comments  के माध्यम से भेज सकते है.

 

Also Read – 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.