Film Actor Dharmendra की Success Life इन हिन्दी

Film Actor Dharmendra की Success Life इन हिन्दी – धर्मेंद्र फिल्म इंडस्ट्री का एक ऐसा नाम जिसने लोगो को Action  करना सिखाया जब धर्मेंद्र फिल्म में आते थे तो हम समझते थे अब तो पक्का विलन की पिटाई होने वाली है और बहुत मार – धाड़ होती थी. धर्मेंद्र देवोल कई दशकों से Indian  Film  Industry  (Bollywood) पर राज कर रहे है. उनके साथ और उनके बाद कितने ही कलाकार आए और गए कोई उनके सामने नहीं टिक पायाFilm Actor Dharmendra की Success Life इन हिन्दीधर्मेंद्र ने अपनी फ़िल्मी जिंदगी में कई तरह के किरदार निभाए Action, Romantic  और भी कई तरह के किरदार उन्होंने अपनी filmy  Life  में निभाए है उन्होंने कई हिट फिल्मे दी है जो हमे आज भी उतनी ही अच्छी लगती है जितनी हमने उसे  पहली बार देखि थी. जिन्हे हम कभी bhula नहीं सकते धर्मेंद्र के नाम पर ऐसी कई हिट फिल्मे है जिनका नाम हमे आज भी याद है जिन्हे हम जितनी बार भी देखे वो हमे बहुत अच्छी लगती है.

और उनमे से एक  blockbuster movie हैं, शोले, दोस्तों शोले को ऐतिहासिक फिल्म कहा जाता है जिसके Characters आज भी लोगो की जुबा में जिन्दा है शोले जितनी हिट हुई थी उतनी आज के दौर में कोई दूसरी फिल्म नहीं हिट हुई और उसका सबसे बड़ा क्रेडिट जाता है धर्मेंद्र पर जिन्होंने शोले फिल्म में उम्दा एक्टिंग करी और वीरू का किरदार निभाया जिसे हम कभी नहीं भूल सकते तो मित्रो हम आज की पोस्ट में धर्मेंद्र की Success Life के बारे में देखेंगे.

Film Actor Dharmendra की Success Life इन हिन्दी”

धर्मेंद्र का प्रारम्भिक जीवन –

दोस्तो धर्मेंद्र जिन्हे हम प्यार से धरम पाजी भी कहते है और उनका पूरा नाम धर्म सिंह देओल  है, उनका जन्म पंजाब के लुधियाना जिले के नसराली गांव में हुवा, उनके पिता का नाम केवल किशन सिंह देओल और माता का नाम सतवंत कोर है. उनका पैतृक गांव लुधियाना में पखोवाल के पास का दंगाव था. उन्होंने अपना प्रारम्भिक जीवन सहनेवाल में बिताया और लुधियाना के कलन के लालटन के गवर्मेंट सीनियर सेकंडरी स्कूल में उन्होंने शिक्षा प्राप्त की. और वहा पर उनके पिता जी केवल किशन सिंह देओल ही हेडमास्टर थे. उन्होंने इंटरमीडिएट की पढ़ाई सन 1952  में फगवारा के रामगढ़िया कॉलेज से पूरी की है.

धर्मेंद्र के फिल्मी करियर की शुरुवात –

दोस्तों धर्मेंद्र को पंजाब में फिल्मफेयर मैगजीन न्यू टेलेंट अवार्ड मिला था. और जिसके बाद वो काम ढूंढने के लिए मुंबई आए थे. 1960  में अर्जुन हिंगोरानी की आयी फिल्म दिल भी तेरा हम भी तेरे से उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा था. इसके बाद 1961 में आयी फिल्म बॉय फ्रेंड में वे सह-कलाकार की भूमिका में नजर आए और फिर 1960  से 1967  के बिच उन्होंने कई रोमांटिक फिल्मे की जो लोगो को बहुत पसंद आयी.

उन्होंने नूतन के साथ सूरत और सीरत 1962, बंदनी 1963, दिन ने फिर याद किया. 1966, और दुल्हन एक रात की 1967 में काम किया है और माला सिंह के साथ अनपढ़ 1962, पूजा के फूल 1964, बहारे फिर भी आएगी में काम किया है और नंदा के साथ आकाश दिप, सायरा बानू के साथ ‘शादी’ और आयी मिलन की बेला 1964  और मिना कुमारी के साथ मै भी लड़की हु 1964, काजल, पूर्णिमा 1965 और फूल और पत्थर 1966  में काम किया.

फूल और पत्थर 1966  में उनका अकेले का किरदार था. और जो उनकी पहली एक्शन फिल्म भी थी और फिर इसी फिल्म के वजह से उन्हें एक्शन हीरो के नाम से पहचानने लगे थे. इसके बाद उन्होंने 1971 में आई एक्शन फिल्म मेरा गांव मेरा देश की फिर धर्मेंद्र की एक्शन फिल्मो की डिमांड बढ़ती जारही थी.

फूल और पत्थर 1966  की हाईएस्ट-ग्रोसिंग फील साबित हुई और धर्मेंद्र को इसके लिए बेस्ट एक्टर का फ़िल्मफ़ेअर में पहला नॉमिनेशन भी मिला था. फिल्म अनुपमा में उनके किरदार और अभिनय की लोगो ने काफी तारीफ की उन्होंने 1975 से रोमांटिक और एक्शन दोनों तरह की फिल्मे की और इसी वजह से लोग उन्हें बहुमुखी प्रतिभा के धनी हीरो कहते थे. इस दौर में उन्होंने कई कॉमेडी फिल्मे भी की जिनमे तुम हसी में जवान, दो चार, चुपके-चुपके, दिल्ल्गी, नौकर बीवी का शामिल है.

दोस्तों धर्मेंद्र की सबसे सफलतम सह – कलाकार  हेमा मालिनी थी, जिससे बाद में उनकी शादी भी हुई थी. इन दोनों ने कई फिल्मो में एक साथ काम किया है, जिसमे शोले, राजा रानी, सीता और गीता, शराफत, नया जमाना, ड्रीम गर्ल, पत्थर और पायल, तुम हसीन मै जवान, जुगनू, दोस्त, चरस, माँ, चाचा – भतीजा, और आजाद शामिल है. india  times  ने शोले Film को “top  25  Most सी Bollywood फिल्म Off  All  time” 2005  में 50  वे एनुअल फ़िल्मफ़ेअर award के जज ने शोले फिल्म को फिल्म फेयर  Best  film  Off  50  year  award  भी दिया.

1974  से 1984  के दरमिया आयी ज्यादातर Action फिल्मे धर्मेंद्र ने ही की, जिनमे धरम – वीर, चरस, आजाद, कातिलों के कातिल, गजब, राजपूत, भागवत, जानी दोस्त, धर्म और कानून, मै इन्तेक़ाम लूंगा, जीने नहीं दूंगा, हुकूमत और राज तिलक शामिल है. और दोस्तों राजेश खन्ना के साथ भी उन्होंने 1986 में  फिल्म मोहब्बत की कसम की थी.

जैसा की 1974  से 1984  के दरमिया आई ज्यादातर Action  filme  धर्मेंद्र ने ही की उन्होंने बहुत से डायरेक्टरो के साथ काम किया है, जिसके साथ उन्होंने अलग – अलग तरह की फिल्मे की है. उनका सबसे लम्बा सहयोग डायरेक्टर अर्जुन हिंगोरानी के साथ 1960  से 1991 तक, बतौर अभिनेता दिल भी तेरा हम भी तेरे धर्मेंद्र की पहली फिल्म थी. इसके बाद अर्जुन और धर्मेंद्र ने कब? क्यों? और कहाँ?, कहानी किस्मत की, खेल खिलाडी का, कातिलों का कातिल और कौन करे क़ुरबानी में साथ-साथ काम किया.

और मित्रो इसके बाद उन्होंने डायरेक्टर प्रमोद चक्रवर्ती के साथ नया जमाना, ड्रीम गर्ल “बेस्ट रोमांटिक फील”, आजाद और जुगनू, में साथ – साथ काम किया. इसके बाद धर्मेंद्र ने फिल्म यकीन 1969 में दोहरी भूमिका निभाई, इसके बाद समाधी 1972  में पिता और पुत्र, गजब 1982  में जुड़वाँ भाई और जिओ शान में ट्रिपल रोल में नजर आए.

धर्मेंद्र ने कपूर परिवार में पृथ्वीराज और करीना कपूर को छोड़कर सभी के साथ काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने अपनी स्थानीय भाषा पंजाबी में भी फिल्मे करी है – कंकन के ओले (मेहमान की भूमिका) 1970, दो शेर 1974, दुःख भजन तेरा नाम 1974, तेरी मेरी एक जिंदगी 1975, पुत्त जट्टा दे 1982 और क़ुरबानी जुट्टा दी 1990  जैसी फिल्मे की. 1980  और 1990  के बिच उन्होंने बतौर अभिनेता और बतौर सह कलाकार कई फिल्मे की है.

धर्मेंद्र को 1997 में  फिल्फेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड मिला, दिलीप कुमार और उनकी पत्नी सायरा बानू के हाथो से अवार्ड लेते समय धर्मेंद्र भाउक हो गए थे. और उन्होंने कहाँ की बहुत सी सफल और सुपरहिट फिल्मे करने के बावजूद उन्हें बेस्ट एक्टर का फिल्फेयर अवार्ड नहीं मिला और अबतक वे 100  से भी ज्यादा सफल फिल्मे कर चुके है. इस मोके पर दिलीप कुमार ने कहाँ की, “जब कभी भी मै भगवान से मिलूंगा तब मै उनसे एक ही शिकायत करूंगा की उन्होंने मुझे धर्मेंद्र जितना खूबसूरत क्यों नहीं बनाया?”.

इसके बाद उन्होंने प्रोडक्शन में भी हाथ आजमाया, उन्होंने अपने दोनों बेटो को फिल्मो में लॉन्च किया, सन्नी देओल को बेताब 1983 में और बॉबी देओल को बरसात 1995 और भतीजे अभय देओल को सोचा न था  2005 . इसके साथ ही वे अपनी फिल्म सत्यकाम 1969  और कब क्यों और कहाँ 1970 के प्रेसेंटर भी थे. प्रीति जिंटा ने एक इंटरव्यू में कहाँ था की, धर्मेंद्र ही उनके सबसे पसंदीदा अभिनेता है. वह चाहती थी की फिल्म हर पल 2008 में धर्मेंद्र उनके पिता की भूमिका निभाए.

2003 में धर्मेंद्र कुछ दिन एक्टिंग से दूर रहने के बाद, बतौर अभिनेता 2007  में उन्होंने लाइफ इन ए मेट्रो  और अपने की. उनकी ये दोनों ही फिल्मे बहुत सुपरहिट रही. इसके बाद उनकी दूसरी फिल्म थी जोहनी गद्दार जिसमे उन्होंने एक विलन की भूमिका निभाई थी.

2011 में उन्होंने अपने बेटो के साथ फिल्म यमला पगला दीवाना में काम किया जो 14 जनवरी 2011 को रिलीज हुई. इसके बाद उन्होंने इसका दूसरा भाग यमला पगला दीवाना 2 भी की जो 2013 में रिलीज हुई. अपनी बेटी ईशा और पत्नी हेमा के साथ धर्मेंद्र 2011  में आयी फिल्म लेट मि ओ खुदा में नजर आए थे. 2014 में उन्होंने पंजाबी फिल्म डबल दी ट्रबल में डबल रोल किया है. और दोस्तों मुझे आपको यह बात बताते बहुत ख़ुशी हो रही है धर्मेंद्र उनके और उनके दोनों बेटो के साथ वापिस 2018 में यमला पगला दीवाना फिर से लारहे  है.

2011  में धर्मेंद्र ने साजिद खान की फिल्म प्रसिद्ध टीवी शो गोट टेलेंट की के तीसरे संस्करण को जज किया है. 29 जुलाई 2011 को इंडिया गोट लेटेंट कलर्स पर आया था जिसकी शुरुवाती रेटिंग उसके पिछले दो संस्करणों से ज्यादा थी.

Dharmendra का व्यक्तिगत जीवन –

धर्मेंद्र ने 1954 में 19 साल की उम्र में पहली शादी प्रकाश कौर से की थी. अपनी पहली शादी से उन्हें दो बेटे हुए सन्नी देओल और बॉबी देओल. दोनों ही सफलतम अभिनेता है और उनकी दो बेटियाँ विजिता देओल और अजित देओल भी है. मुंबई आने के बाद और फिल्म व्यवसाय स्थापित के बाद धर्मेंद्र ने 1980 में हेमा मालिनी से दूसरी शादी की. उनसे ही दो बेटियाँ ईशा देओल और अहाना देओल हुई.

धर्मेंद्र का राजनैतिक करियर –

दोस्तों धर्मेंद्र ने राजनीती में भी अपना हाथ आजमाया है. 2004 के जनरल चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के तोर पर वे राजस्थान के बीकानेर से चुनाव जीते और उन्हें पार्लिमेंट का सदस्य भी बनाया. अपने चुनावी अभियान के दौरान उन्होंने कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त किये थे. और देश के लोगो को लोकतंत्र का अर्थ समझाने की कोशिश की थी. लेकिन इस दौरान उन्होंने कई आलोचनात्मक बाते भी की थी. संसद का सदस्य होने के बावजूद वे बहुत कम संसद जाते थे. क्योकि वे अपना ज्यादातर समय फिल्मो की शूटिंग और फार्म हाऊस को ही देते थे.

धर्मेंद्र प्रोडूसर के रूप में –

1983 में धर्मेंद्र देओल ने विजेता फिल्म के नाम से एक प्रोडक्शन कंपनी की शुरुवात की. बतौर प्रोडूसर उनकी पहली फिल्म बेताब थी जो 1983 में रिलीज हुई, जिसमे उनके बेटे सनी देओल मुख्य भूमिका में थे. उनकी यह फील ब्लॉकबस्टर साबित हुई. 1990 में उन्होंने एक्शन फिल्म घायल प्रोड्यूस की जिसमे उन्ही के बेटे सनी देओल ने काम किया. इस फील ने सात फिल्मफेयर अवार्ड जीते, जिनमे बेस्ट मूवी अवार्ड भी शामिल है.

धर्मेंद्र पाजी को मिले अवार्ड –

“नागरिक अवार्ड – 2012  – पदम् भूषण भारत का तीसरा सर्वोच्च आवर्ड”

“राष्ट्रीय फिल्म अवार्ड – 1991  – घायल (प्रोड्यूसर) फिल्म के लिए नेशनल आवर्ड”

धर्मेन्द्र से जुड़ी की खास बाते –

1 – धर्मेन्द्र का जन्म 8 दिसम्बर 1935  को पंजाब में हुवा. इनका पूरा नाम धरम सिंह देओल है.

2 – धर्मेन्द्र के पिता स्कूल में डेडमास्टर थे.

3 – अपने गांव से बहुत दूर एक सिनेमा घर में धर्मेन्द्र ने सुरैया की फिल्म “दिल्लगी”  देखि थी. इस फिल्म को देखने के बाद वो इतने प्रभावित हुए थे की उन्होंने अपना करियर फिल्म लाइन में ही बनाने की ठान ली.

4 – दोस्तों आपको यह जानकर बहुत हैरानी होगी की धर्मेन्द्र ने “दिल्लगी” फिल्म को लगातार 40 दिनों तक देखा और इस फिल्म को देखने के लिए वो मिलो पैदल चलकर जाते थे.

5 – एक बार की बात है की फिल्म फेयर नाम की पत्रिका में नई प्रतिभा की खोज हो रही थी, जिसके लिए धर्मेन्द्र ने भी फार्म भेजा.

6 – आपको जानकर यह हैरानी होगी की धर्मेन्द्र ने कभी कोई अभिनय क्लास नहीं ज्वाइन की. कहि भी अभिनय नहीं सीखा, इसके बाद भी उन्हें चुना गया. 

7 – फिल्मो में सफलता पाने से पहले धर्मेन्द्र को बहुत स्ट्रगल करना पड़ा. कई राते तो ऐसी गुजारी जब चने खाकर उन्हें बेंच पर ही सोना पड़ा.

8 – फिल्म निर्माताओं से मिलने के लिए वो मिलो पैदल जाते थे. जिससे की कुछ पैसे बचा सके और कुछ खाने को ले सके.

9 – धर्मेन्द्र ने अपने दौर की नामचीन हीरोइनों, जैसे माला सिन्हा, मिना कुमारी, और नूतन के साथ कई फिल्मे की.

10 – पंजाबी होने पर उनकी बॉडी बिलकुल पहलवान जैसी थी. जिसे देख कई लोगो ने उन्हें गांव लोट जाने की सलाह दी और पहलवानी करने की भी सलाह से डाली.

धर्मेंद्र की कुछ बेस्ट फिल्मे –

शोले, धरम – वीर , लोहा, ड्रीम गर्ल, राजा रानी, सीता और गीता, शराफत, नया जमाना, पत्थर और पायल, तुम हसीन मै जवान, जुगनू, दोस्त, चरस, माँ, चाचा – भतीजा और दोस्तों इसके आलावा भी धर्मेंद्र ने अपने फ़िल्मी करियर में कई हिट फिल्मो में काम किया है.

तो दोस्तों यह थी पोस्ट “Film Actor Dharmendra की Success Life इन हिन्दी” कैसी लगी प्लीज़ हमे जरूर बताये और में समझता हु की आप भी Best Actor Dharmendra के जीवन से जरूर प्रेरणा लेंगे और अपने जीवन को भी उनकी तरह एक सफल जीवन बनायेगे आप उनकी Life से अच्छी – अच्छी बाते जरूर सीखे.

आप इस पोस्ट से संबंधित अपने विचार हमे Comments के माध्यम से भेज सकते है.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.