एक छेद भी जहाज डुबो सकता है

एक छेद भी जहाज डुबो सकता है – दोस्तों आज में ये post , Thoughtking पर आपके लिए लाया हु ,

जो आपको बहुत पसंद आएगी.

एक छेद भी जहाज डुबो सकता है

 

दोस्तों जैसा हमारी आज की post का नाम है “एक छेद भी जहाज डुबो सकता है” , तो इसका क्या मतलब है दोस्तों इसका मतलब ये है की हमारी छोटी सी खामी या छोटी सी गलती भी हमारा जीवन या हमारा करियर खत्म कर सकती है ,

 

इसलिए हमे जिंदगी में और खासकर अपने working life में किसी प्रकार की गलती या खामी से बचना चाहिए.

 

हम अगर अपने work पर stable है . और ऐसी जगहे पर हम कुछ  गलती करेंगे तो उससे हमारा काम बिगड़ सकता है. और जैसा हमारी post है , “एक छेद भी जहाज डुबो सकता है” .

 

उसी प्रकार दोस्तों जहाज एक बार में या एक दिन नहीं डूबता जहाज जब डूबता है . जब पानी उसमे पूरी तरह भर जाता है , इसी प्रकार हमारी गलतिया भी जब हमारे लिए आत्म घातक  साबित होती है.  जब वो हद से ज्यादा बढ़ जाती है.

 

मित्रो industrial life में ऐसा बहुत होता है, industrial life में आज के दौर में बहुत competition है , जहा हर कोई किसी को पीछे करने के चक्कर में लगा  है ,

 

एक छेद भी जहाज डुबो सकता है

 

आज हर इंसान आगे जाना चाहता है , और आज का इंसान आगे बढ़ने के लिए कोई भी कीमत चुकाने को ततपर  रहता है. और उससे बढ़कर काम के मामले  में बहुत ही , ज्यादा  competition बढ़ा  है .

 

Also Read-जीवन में संघर्ष क्यों जरूरी है

 

आज से कुछ समय पहले ऐसा होता था , कोई आदमी किसी post पर काम कर रहा होता है तो उस काम को करने के लिए दूसरे लोग मुश्किल से मिलते थे . कहने का मतलब वो काम उस आदमी से जुड़ा होता था .

 

और companies भी उस आदमी को छोड़ना नहीं चाहती थी. किसी भी कीमत पर उसे रखना चाहती थी , पर आज का जमाना बदल गया है.

 

आज कोई काम किसी particulate इंसान का मोहताज नहीं है, बस यही की वो काम कुछ दिन disturb होगा लेकिन फिर चलने लगेगा और दोस्तों इसलिए कम्पनिया भी आज – कल किसी इंसान की मोहताज नहीं है ,

 

Also Read-हम अपने बच्चो को कैसे control करे

 

एक काम को करने के लिए 100 आदमी लाइन में लगे है , वो छोड़ेगा तो दूसरा कोई आजायेगा , मतलब कम्पनीस  भी आज के दौर में आपकी गलतियां माफ़ नहीं करना चाहती.

 

और ऐसा नहीं है एक बार में कोई नहीं निकालता जब आप बार – बार गलतियां करते जाते है तब आपको निकाला जाता है , और जैसा हमारी post का नाम है ” एक छेद भी जहाज डुबो सकता है ” तो वो सही साबित होता है.

 

मतलब हम बार – बार गलतियां करते जाते है. उसका मतलब है की पानी भर रहा है, और जब जहाज डूबता है तब समझलो हमारी गलतियां बहुत हो गई है , और अब हमारी job पर खतरा है या हमारा जहाज डूबने वाला है.

 

तो दोस्तों हमे हमारी working life हो या personal life सब में हमारी गलतियों को manage करते रखना है . हमे इतनी गलतियां नहीं करनी है, की हमारा जहाज दुब जाये या हमारा life में कोई नुकसान हो जाये हमे हमेशा अपने काम को समझना है .

 

और काम को सही तरिके से करते जाना है , दोस्तों लोग कहते है की गलती तो काम करने वाले से ही होती है , पर ये कहावत एक या दो बार ही ठीक होती है. और आपको बार – बार कोई आपकी गलती को माफ़ नहीं करेगा .

 

इस दुनिया का कोई भी इंसान जो काम करता है, उसके सामने हमेशा जहाज डूबने वाली परिस्तिथी आती है. पर जो इंसान समझदार होता है , और परिस्तिथी को समझलेता है , वोही इंसान अपने work में टिक पाता है. और जो इंसान समय पर इस स्थति को नहीं समझता है . उसका जहाज डूब जाता है . अर्थात उसकी job या उसका काम जो वो करता है उसके  हाथ से निकल जाता  है .

 

इसलीये में आपको दुबारा ये समझाने की कोशिश करता हु, की आप जहा भी रहे जो भी काम करे उसमे गलतियों की गुंजाईश न रखे और जैसा हमारा topic है ” एक छेद भी जहाज डुबो सकता है ” आप अपनी life में ये  स्थति कभी

 

उतपन्न नहीं होने दे और अगर किसी कारण वश कोई स्थति बने तो उसे अपनी समझदारी से निपटाने की कोशिश करे और खास बात ये की अपने काम से सब को जवाब दे आपका काम अच्छा रहेगा तो आपको कोई कुछ नहीं बोल पायेगा और आपकी position सैफ रहेगी .

 

तो दोस्तों आपको ये post “एक छेद भी जहाज डुबो सकता है ”  केसी लगी pliz हमे बताये और में समझता हु, आप मेरी इस post से जरूर कुछ सीखेंगे और ये आपके जीवन में बहुत काम आएगी .

 

और आप हमे post संबंधित अपने विचार हमे comments के माध्यम से भेज सकते है, हमे आपके comments का इंतजार रहेगा .

 

धन्यवाद

विजय पटेल

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.