डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes

डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes

 

डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes –  दोस्तों आज में आपके लिए एक ऐसे महान इंसान के अनमोल विचार लेके आया हु , जिसने हिंदुस्तान को एक कानून व्यवस्था दी जिसने हिंदुस्तान का संविधान लिखा दोस्तों अब आप समझ ही गए होंगे की में किस महान इंसान की बात कर रहा हु ,

 

डॉ भीमराव आंबेडकर एक ऐसे इंसान थे. की उस दौर में उनके बराबर पड़ा – लिखा कोई नहीं था . जब हिंदुस्तान आजाद हुवा तब भारत के संविधान बनाने की जरूरत पड़ी संविधान देश की एक कानून व्यवस्था होती है . जिसके द्वारा कोई भी देश चलता है .

 

जब हिंदुस्तान आजाद हुवा उस समय तत्कालीन प्रधान मन्त्री जवाहरलाल नेहरू ने और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने ” डॉ भीमराव आंबेडकर ” को बुलवाया और उनके द्वारा संविधान की रचना हुई . और भारत में वही संविधान आज भी चल रहा है . हम उसका पालन कर रहे है .

 

तो अब हम डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes हिंदी में देखेंगे . जिन्हे पड़ कर हमे बहुत ज्ञान मिलेगा .

 

डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes

1 – मै भारत को एक कानून के अंतर्गत देखना चाहता हु .

 

2 – भारत में एक ऐसा कानून बने की जिसमे किसी भी धर्म समाज के प्रति भेद – भाव ना हो .

 

3 – पति और पत्नी मै एक मित्रता का संबंध होना जरूरी है .

 

4 – मै उस धर्म को पसंद करता हु , जो स्वतंत्रता , समानता और भाईचारे की भावना सिखाता है .

 

5 – भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र है यह पूर्ण तह कड़े कानून बनाने की जरूरत है .

 

6 – कानून और व्यवस्था , राजनीती के शरीर की दवाये है और जब शरीर बीमार हो जाये तो दवाइयों को अपना काम करना चाहिए .

 

7 – एक महान इंसान एक सुप्रसिद्ध इंसान से इसलिए बेहतर है , क्योकि वह समाज का सेवक बनने को हमेशा तैयार रहता है .

 

8 – जिंदगी लम्बी नहीं बल्कि महान होनी चाहिए .

 

9 – दुनिया का कोई भी देश क्योंना हो वहा एक देश एक कानून व्यवस्था होनी चाहिए .

 

10 – भारत एक रियासती देश हे इसे एक कानून मे बांधना बहुत जरूरी है .

 

11 – संविधान हमे जीना सिखाता है , हमे संविधान की जरूरत है , संविधान को हमारी नहीं .

 

12 – जो इंसान देश के संविधान को नहीं मानता उसका पालन नहीं करता वो एक तरह से देश द्रोह का काम कर रहा है .

 

13 – देश के संविधान देश के कानून का पालन करना हमे कोई नहीं सिखाता हमे ही उसे  अपने  ऊपर लागु करना होगा  .

 

14 –  इंसान नश्वर है ठीक उसी तरह हमारे विचार भी नश्वर है . विचारो को प्रचार – प्रसार की जरूरत होती है. जैसे पौधे  पानी  के बगैर पौधे मुरझा जाते है .

 

15 – मे किसी समाज की उन्नति को महिलावों की उन्नति मानता हु .

 

16 – पढ़ाई – लिखाई इंसान के लिए बहुत जरूरी है , पर दुनिया की समझ भी उतनी ही जरूरी है .

 

17 – जाती कोई ईंटो की दीवार नहीं है या कोई काँटों का तार नहीं है , जो हिन्दुवो को आपस मे मिलने से रोक सके . जाती एक धारणा है , जो मन की एक अवस्था है .

 

18 – जो अपना इतिहास भूल जाते है , वो कभी इतिहास नहीं बनाते .

 

19 – अगर मुझे लगा की संविधान का दुरपयोग हो रहा है , तो इसे सबसे पहले मे ही जलाऊंगा .

 

20 – जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता को नहीं हासिल कर लेते , कानून द्वारा दी गयी हर स्वतंत्रता आपके लिए बेमानी रहेगी .

 

21 – कुछ लोग सोचते है की समाज के लिए धर्म की आवश्यकता नहीं है . लेकिन मै इस विचार को नहीं मानता , मानव जीवन के लिए धर्म की स्थापना होना बेहद जरूरी है .

 

22 – हमे अपने पेरो पर खड़े होना है , अपने अधिकार के लिए लड़ना है , तो अपनी ताकत और बल को पहचानो क्योकि शक्ति और प्रतिस्ठा संघर्ष के ही मिलती है .

 

23 – जो लोग कानून तोड़ते है , उन्हें दंड मिलना बेहद जरूरी है .

 

24 – मेरे हिसाब से बच्चो को शुरू के ही कानून की जानकारी देना चाहिए .

 

25 – संविधान निर्माण मेरे लिए एक बहुत ही कठिन कार्य था . पर फिर भी मैने सभी देशवासियो को ध्यान मै रखते हुए इसकी रचना करी .

 

26 – मै पूरी सत्यनिष्ठा से  आपको विश्वास दिलाता हु , की मै सिर्फ एक हिन्दू बन कर ही मरूंगा सामान्यतः कोई स्मृतिकार  कभी ये बात नहीं बताता की आपके सिद्धांत क्यों है और कैसे है धर्म और गुलामी असंगद  है .

 

तो दोस्तों यह थे महान ”  डॉ भीमराव आंबेडकर Quotes ”  और मै आशा करता हु , की आप इनको पढ़कर इन से कुछ ना कुछ जरूर  सीखेंगे . हमे डॉ भीमराव आंबेडकर जैसा बनना है हमे भी उन के जैसी बुद्धि प्राप्त करना है . और लोगो को भी हमे कानून का पालन करना सीखना है .

 

और आप इस post  से संबंधित अपने अनमोल विचार हमे Comments  के माध्यम से भेज सकते है . और मै आपके लिए आगे भी किसी महान हस्ती के विचार लाता रहुगा .

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *