अमिताभ बच्चन की Success story हिन्दी में

अमिताभ बच्चन की Success story हिन्दी में – महानायक अमिताभ बच्चन जो किसी परिचय के मोहताज नहीं उनके परिचय के लिए उनका नाम ही काफी है और लोग उन्हें कई नामो से जानते है, कुछ उन्हें बच्चन साब कहते है, BIG B,  कुछ अमित जी, तो कुछ उन्हें महानायक कहते है तो कुछ उन्हें सदी का महानायक कहते है और जिन्हे फिल्म जगत का शहंशाह भी कहा जाता है और मित्रो ये लोगो का प्रेम ही है जो लोग उन्हें ऐसे सम्बोधित करते है.अमिताभ बच्चन की Success story हिन्दी मेंअमिताभ बच्चन ने हम लोगो के दिलो में इतनी जगह बनाली हे की उन्हें कभी अपने दिलो से निकाला नहीं जा सकता लगभग 50  सालो से बच्चन साब भारतीय फिल्म इंडस्ट्री पर राज कर रहे है उनके साथ काम करने वाले कितने ही Actor  आये और चले गए पर अमिताभ बच्चन ने आज भी अपनी पोजीशन बरकरार रखी है और उनसे उनकी ये जगह कोई छीन भी नहीं सकता उनको सिर्फ हिन्दुस्तान में ही नहीं बल्कि सारी दुनिया में बड़े ही सम्मान के साथ प्यार किया जाता है और इसके पीछे उनकी अपने काम के प्रति कड़ी मेहनत है.

बच्चन साब ने कई फिल्मो में काम किया है और में आपको एक बात बताऊ हमने बचपन से और जबसे फिल्मे देखना शुरू किया तबसे उनकी फिल्मे देखते हुए ही बड़े हुए है उन्होंने कई सुपर हिट फिल्मे करी है कई फिल्मे अकेले की और कई फिल्मो में उनके साथ दूसरे Actors जैसे धर्मेंद्र, राजेश खन्ना ने भी काम किया है पर हर फिल्म में अमिताभ बच्चन ने काबिले तारीफ अभिनय किया है उन्होंने हर फिल्म में अपनी छाप छोड़ी है. तो आज हम इस post में अमिताभ बच्चन की Success story को detail में देखेंगे और उनकी Life से सिख लेंगे.

पूरा नाम      –    अमिताभ हरिवंश राय बच्चन

जन्म           –    11  अक्टूबर, 1942

जन्मस्थान   –   इलाहाबाद

पिता           –   हरिवंश राय बच्चन

माता           –  तेजी बच्चन

विवाह          –  जया भादुड़ी बच्चन

संतान          –   अभिषेक बच्चन, श्वेता नंदा

अमिताभ बच्चन की Success story हिन्दी में”

जीवन परिचय –

मित्रो अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर 1982 में हुवा. इलाहाबाद उत्तर प्रदेश, में जन्मे अमिताभ बच्चन के पिता डॉ  हरिवंश राय बच्चन प्रख्यात हिन्दी कवि थे. जबकि उनकी माँ तेजी बच्चन कराची से संबंध रखती थी. आरम्भ में बच्चन का नाम इंकलाब रखा गया था. जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान प्रयोग में किये गए प्रेरित वाक्यांश इंकलाब जिंदाबाद से लिया गया था. लेकिन बाद में इनका नाम फिर से अमिताभ रखा गया जिसका जिसका अर्थ “ऐसा प्रकाश जो कभी नहीं बुझेगा”.

यद्यपि इनका अंतिम नाम श्रीवास्तव था फिर भी इनके पिता ने इस उपनाम को अपनी कृतियों को प्रकाशित करने वाले बच्चन नाम से उद्धत किया. यह इनका अंतिम नाम ही है जिसके साथ उन्होंने फिल्मो में एवं सभी सार्वजनिक प्रयोजनो के लिए उपयोग किया. अब यह उनके परिवार के समस्त सदस्यों का उपनाम बन गया है.

अमिताभ हरिवंश राय बच्चन के दो बेटो में बड़े बेटे है, उनके दूसरे बेटे का नाम अजिताभ है. कहते है इनकी माता की थिएटर में काफी रूचि थी और उन्हें फिल्म में भी रोल की पेशकश की गयी थी. किन्तु उन्होंने एक गृहणी बनना ही पसंद किया. अमिताभ ने जो अपने लिए फ़िल्मी करियर चुना उसमे उनकी माता का भी योगदान था. क्योकि वे हमेशा इस बात पर भी जोर देती थी की उन्हें सेंटर स्टेज को अपना करियर बनाना चाहिए बच्चन के पिता का देहांत 2003 में हो गया था. जबकि उनकी माता की मृत्यु 21 दिसंबर 2007 को हुई थी.

दोस्तों अमिताभ बच्चन ने दो बार “M A” की उपाधि ग्रहण की है, मास्टर ऑफ आर्ट्स इन्होने इलाहाबाद के ज्ञान प्रबोधिनी और बॉयज हाय स्कूल तथा उसके बाद नैनीताल के शेरवुड कालेज में पढ़ाई की जहा काल संकाय में प्रवेश दिलाया गया. अमिताभ बाद में आगे की पढ़ाई के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कालेज चले गए जहा इन्होने विज्ञानं स्नातक की उपाधि प्राप्त की. अपनी आयु के बिस के दशक में बच्चन ने अभिनय में अपना करियर आजमाने के लिए कोलकाता की एक शिपिंग फर्म बर्ड एंड कम्पनी में किराया ब्रोकर की नौकरी छोड़ दी. और फिल्मो में अपनी किस्मत आजमाने मुंबई चले गए.

अमिताभ बच्चन का फ़िल्मी करियर –

दोस्तों अमिताभ बच्चन ने फिल्मो में अपने करियर की शुरुवात ख्वाजा अब्बास के निर्देश में बनी सात हिन्दुस्तानी के साथ कलाकारों में एक कलाकार के रूप में की, उत्प्ल दत्त, मधु और जलाल आगा जैसे कलाकारों के साथ अभिनय कर के फिल्म ने वित्तीय सफलता प्राप्त नहीं हुई पर बच्चन ने अपनी पहली फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ नवांगतुक का पुरस्कार जीता. इस सफल व्यवसायिक और समीक्षित फिल्म के बाद उनकी एक और आनंद फिल्म 1971 में आयी जिसमे उन्होंने उस समय के लोकप्रिय कलाकार राजेश खन्ना के साथ काम किया.

डॉ भास्कर बनर्जी की भूमिला करने वाले बच्चन ने एक कैंसर के रोगी का उपचार किया जिसमे उनके पास जीवन के प्रति वेबकूफी और देश की वास्तविकता के प्रति उसके दृष्टिकोण के कारण उसे प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक कलाकार का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला. इसके बाद अमिताभ ने 1971 में बनी परवाना फिल्म में एक मासूम प्रेमी की भूमिका निभाई जिसमे इसके साथी कलाकारों में नवीन निश्छल, योगिता बलि और ओम प्रकाश थे और इन्हे खलनायक के रूप में फिल्माना अपने आप में बहुत कम देखने को मिलने जैसी भूमिका थी.

मित्रो इसके बाद अमित जी की कई फिल्मे बॉक्स ऑफिस पर आयी लो सफल नहीं हो पायी. पर मित्रो समय का चक्र घुमा और उसी दौर में उनकी एक फिल्म आयी दीवार जिसने धमाल मचाया इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के साथ शशिकपूर ने भी अभिनय किया था. यह फिल्म सामाजिक ताने – बाने पर फिल्मायी गयी बहुत ही बढ़िया फिल्म थी जो हमेशा अच्छी लगती है.

और उसके बाद एक और ऐतिहासिक फिल्म आयी जिसका नाम है शोले और शोले फिल्म के बारे में तो किसी को कुछ बताने की भी जरूरत नहीं इसमें उनके साथ धर्मेंद्र ने मुख्य भूमिका निभाई थी और दोनों के फ़िल्मी नाम जय और वीरू बहुत ही प्रसिद्ध हुए इस फिल्म का हर एक कैरेक्टर आज भी लोगो की जुबा में बसा हुवा है. और इसके बात तो अमिताभ बच्चन की कई हिट फिल्मे आयी ” डॉन, नमक हराम, शराबी, मुक़ददर का सिकंदर, अमर अकबर अन्थोनी, त्रिशूल, सिलसिला, अग्निपथ बहुत फिल्मे आयी और दोस्तों उनका फ़िल्मी करियर आज भी चल रहा है अमिताभ बच्चन आज भी उसी शिदद्त से अपना काम करते है.

अमिताभ बच्चन की पढ़ाई –

दोस्तों अमिताभ बच्चन शेरवुड कालेज, नैनीताल के छात्र रहे है. इसके बाद की पढ़ाई उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोरीमल कालेज से की थी. पढ़ाई में भी वे काफी अव्वल थे. वो हमेशा अच्छे नंबर लाते थे और Class  के अच्छे छात्रों में उन्हें गिना जाता था. और उनमे सारे गुण उनके पिता जी से ही आए है क्योकि वो एक कवि रहे है.

बच्चन साब की शादी –

अमिताभ बच्चन की शादी जया बच्चन से हुई जया भी अपने जमाने की मशहूर अधिनेत्री रही है और उन्होंने शोले जैसी मशहूर फिल्म में दोनों ने एक साथ काम किया है. उन्हें दो बच्चे है, अभिषेक बच्चन उनके सुपुत्र है और श्वेता नंदा उनकी सुपुत्री है.

अमिताभ बच्चन की प्रसिद्ध और सदाबहार फिल्मे –

आनंद, जंजीर, अभिमान, सौदागर, चुपके – चुपके, सात हिन्दुस्तान, सिलसिला, कालिया, सत्ते पे सत्ता, नमक हलाल, शक्ति, कुली, शराबी, मर्द, शहंशाह, अग्निपथ, खुदा गवाह, दीवार, शोले, कभी – कभी, अमर अकबर एन्थोनी, त्रिषुल, डॉन, मुक़ददर का सिकंदर, मि. नटवरलाल, लावारिस, मोहबत्ते, बागबान, ब्लेक, वक्त, सरकार, जादूगर, चीनी कम, भूतनाथ, पा, सत्याग्रह, शमिताभ, सूर्यवंशम, और भी कई सफल फिल्मो में अमित जी ने काम किया है.

अमिताभ बच्चन से जुडी कुछ रोचक बाते –

1 – अमिताभ बच्चन को ‘सदी का महानायक कहा जाता है, और आप तो जानते ही हो की वे हिन्दी फिल्मो के सबसे बड़े सुपर स्टार माने जाते है.

2 – 70  और 80  के दौर में फिल्म सीन्स में अमिताभ बच्चन का ही आधिपत्य था. इस वजह से वे फ्रेंच डायरेक्टर फ्रवसा त्रूफो ने उन्हें ‘वन में इंडस्ट्री’ तक करार दिया था.

3 – उन्हें असली पहचान फिल्म जंजीर से  मिली थी. यह फिल्म अमिताभ से पहले कई बड़े अभिनेताओं को ऑफर हुई थी जिसमे मशहूर अभिनेता राजकुमार भी शामिल थे. लेकिन राजकुमार ने इस फिल्म को यह कहकर ठुकरा दिया था. की डायरेक्टर के बालो में तेल की खुशबु अच्छी नहीं है.

4 – अपने करियर के दौरान उन्होंने कई पुरस्कार जीते जिसमे सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के तोर पर 3 राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी शामिल है. इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और कई अवार्ड समारोह में उन्हें कई पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. वे 14  फिल्मफेयर पुरस्कार जित चुके है. उन्हें फिल्मफेयर में सबसे ज्यादा 39  बार नामांकित किया जा चूका है.

5 – उनके द्वारा फिल्मो में बोले गए उनके डायलॉग आज भी लोगो के दिलो में ताजा है. दोस्तों उनके सुपरहिट करियर में उनके डायलॉग का भी अहम रोल है.

6 – उन्हें भारत सरकार की तरफ से 1984 में पद्मश्री, 2001 में पद्मभूषण और 2015 में पद्मविभूषण जैसे सम्मान मिल चुके है.

7 – मित्रो करियर के शुरुवाती दौर में उन्हें काफी दिक्क्तों का सामना करना पड़ा था. उनकी शुरुवाती कई फिल्मे फ्लाप होती जारही थी. और तब वे घर वापिस लौटने का मन बना चुके थे. फिल्म जंजीर उनके करियर का टर्निंग पॉइंट बन गयी और फिल्म इंडस्ट्री में ‘एंग्री यंग मेन’ का उदय हुवा.

8 – अमिताभ बच्चन की कई फ़िल्मी कलाकारों से गहरी दोस्ती थी. मगर धर्मेंद्र उनके जिगरी दोस्त थे.

9 – दोस्तों आज जिस अमिताभ बच्चन की आवाज की दुनिया कायल है, एक समय था जब उनकी आवाज उनके करियर में रोड़ा बन रही थी और उन्हें नकार दिया गया था लेकिन बाद में उनकी आवाज ही उनकी ताकत बनी और उनकी आवाज ओरो से काफी अलग और भारी थी. इस वजह से कई निर्देशकों ने कई फिल्मो में अपनी कहानी को नेरेट तक करवाया.

10  –  कहा जाता है की अमित जी कभी काम के लिए मना नहीं करते चाहे छोटा डायरेक्टर हो या बड़ा वे सबके साथ काम करते है.

बच्चन साब का राजनैतिक जीवन –

कुली में लगी चोट के बाद उन्हें लगा की वे अब फिल्मे नहीं कर पाएंगे और उन्होंने अपने पैर राजनीती में बड़ा दिए. उन्होंने 8 वे लोकसभा चुनाव में अपने ग्रह छेत्र इलाहबाद की सीट से ऊ. प्र. के पूर्व मुख्यमंत्री अचण बहुगुणा को काफी वोटो से हराया.

राजनीती में वे ज्यादा दिन नहीं टिक सके और फिर उन्होंने फिल्मो को ही अपने लिए उचित समझा.

जब उनकी कम्पनी ABCL आर्थिक संकट से जूझ रही थी तब उनके मित्र और राजनीतिज्ञ अमर सिंह ने उनकी काफी मदद की थी. बाद में अमिताभ ने भी अमर सिंह की समाजवादी पार्टी को काफी सहयोग किया. उनकी पत्नी जया बच्चन ने समाजवादी पार्टी को ज्वाइन कर लिया और वे राजयसभा की सदस्य बन गयी. अमिताभ ने समाजवादी पार्टी के लिए कई विज्ञापन और राजनैतिक अभियान भी किये.

फिल्मो में एक बार फिर उन्होंने वापसी की और उनकी फिल्म ‘शहंशाह’ हिट हुई. इसके बाद उन्होंने अग्निपथ में निभाए गए अभिनय को भी काफी सराहा गया और इसके लिए उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला लेकिन उस दौरान उनकी कई फिल्मे खास बिज़नेस नहीं कर पायी.

महानायक अमिताभ बच्चन को मिले पुरस्कार –

1 – पदम् श्री

2 – पद्मभूषण

3 – पद्मविभूषण

4 – राष्ट्रीय पुरस्कार

5 – फील फेयर पुरस्कार

अमिताभ बच्चन का टेलीविजन करियर –

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने फिल्मो के साथ – साथ टेलीविजन में भी अपना नाम कमाया है. Soni TV  के मशहूर Show कौन बनेगा करोड़पति की Success में उनकी ही मुख्य भूमिका है. लोग अमित जी को एक होस्ट के रूप में बहुत पसंद करते है कौन बनेगा करोड़पति का सब लोग बेसब्री से इंतजार करते है. और करे भी क्योंना अमिताभ बच्चन के द्वारा हमे इसमें बहुत ज्ञान सुनने को मिलता है. KBC  सन 2000 से अभी तक चल रहा है जिसमे अमिताभ बच्चन की मुख्य भुईका है.

तो दोस्तों यह था सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का Success जीवन मित्रो जैसा की अमित जी आज फिल्म इंडस्ट्री के top पर है और जैसे की आप जानते हे आपने इस post में पढ़ा है, और हम भी उनके जीवन से सिख लेकर अपने जीवन को भी सफल बना सकते है. अमित जी ने जैसा अपने जीवन को सफल बनाने में संघर्ष किया है

वैसा या उससे कम भी हम अपने जीवन को Success बनाने में करेंगे तो हमे भी सफलता मिल सकती है. और ऐसा भी नहीं की उन्होंने फिल्मो में अपना करियर बनाया तो हम भी ऐसा ही करे नहीं आप अपने जीवन का जो भी टारगेट हो उसे प्राप्त करे और उसके लिए कड़ी मेहनत करे.

तो मित्रो यह थी post “अमिताभ बच्चन की Success story हिन्दी में” आपको कैसी लगी प्लीज़ आप हमे अपने Comments के माध्यम से जरूर बताये और हम आगे भी आपके लिए कई महापुरषो के सफल जीवन के बारे में बतायेगे.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.