आप क्यों सोचते है परिणाम (Result) के बारे में

आप क्यों सोचते है परिणाम (Result) के बारे में

 

आप क्यों सोचते है  परिणाम (Result) के बारे में – दोस्तों इंसान हमेशा अपने जीवन में काम करता है , पर उसके मन में एक बात की टेंशन हमेशा बनी रहती है . की इसका परिणाम क्या होगा . तो में आपको आज की post  में परिणाम के बारे में ही बताने वाला हु , की हमे परिणाम के बारे में सोचना चाहिए या नहीं .

 

दोस्तों पहले तो मै आपको एक बात बताता हु , यह थोड़ी धार्मिक है और कुछ लोग ऐसे भी है की धार्मिक बाते नहीं मानते पर फिर भी बताता हु , की कहते है – की इंसान को भगवान ने इस दुनिया में सिर्फ कर्म करने के लिए ही भेजा है . और हर कर्म का हिसाब भगवान अपने खाते में लिखते है . और सब को समय – समय पर उनका परिणाम मिलता रहता है अपने कर्मो के आधार पर .

 

पर फिर भी इंसान को अपनी चिंता रहती है . की मै ये काम कर रहा हु , तो क्या मालूम इसका परिणाम क्या होगा मतलब इसमें आगे जाकर मेरा फायदा होगा भी या नहीं होगा . उसको तरह – तरह की टेंशन होती रहती है . और वो आज मै जीने के बजाय कल की सोचता रहता है .

 

दोस्तों कुछ लोग तो दुनिया मै ऐसे भी होते है , जो निःस्वार्थ और परिणाम की चिन्ता करे बगैर अपना काम करते रहते है . और कुछ लोग ऐसे भी होते है जो , जो भी काम करते है उनमे उनको उसके परिणाम की चिन्ता होती है . की इसमें मेरा फायदा होगा या नहीं .

 

जैसे किसी इंसान ने कोई Business  start  किया और उसे करते – करते  2 – 3  महीने ही हुए लेकिन उसके मन मै यह चिन्ता सताने लगती है . की मेने इसे start  किया है इसमें इतने पैसे लगाए है , तो आगे जाकर क्या परिणाम निकलेगा . मेरा कुछ फायदा होगा या नहीं . मतलब वो अपने काम पर ध्यान लगाने के बजाय उसके परिणाम  की चिन्ता करने लगता है .

 

तो दोस्तों जैसा मैने आपको पहले भी बताया की हमे केवल अपने काम मै ध्यान लगाना है उसका परिणाम या रिजल्ट देने का काम भगवान का होता है . की उसे कितना सफल बनाना है ये हमारे हाथ  मै नहीं है , उस काम को सफलता की और लेजाना ये हमारे हाथ मै है . जो लोग job  करते है वो भी यही सोचते है की मैने अभी तो job  start  ही करी है .

 

और जाने मेरा कब अच्छा होगा कब मेरी सेलरी  बढ़ेगी कब मेरा increment  या promotion  होगा . और इसी बात की टेंशन लेता रहता है. और परिणाम के बारे मै सोचता रहता है .

 

आप क्यों सोचते है परिणाम (Result) के बारे में:

 

और जो इंसान अपनी job  मै नया – नया लगता है . वो वहा पर काम सिखने के बजाय तरक्की के बारे मै सोचने लगे तो यह तो सही नहीं है . पहले आप अपने आप को काबिल बनालो कामयाबी खुद झक मारके आएगी . आप अगर उस काम मै माहिर हो जायेगे . आप को अच्छा Experience  हो जायेगा तो कामयाबी तो मिलना ही है . वो कही नहीं जाने वाली

 

Also Read – जीवन में बुरे कर्म ना करे

 

और कुछ लोग तो इतने अजीब होते है – की वो किसी से दोस्ती भी करते है तो उसमे अपना फायदा ही देखते है की अगर मै इससे दोस्ती करता हु , तो कुछ समय बाद क्या परिणाम होगा मतलब इसमें मेरा क्या फायदा होगा . तो हमे ऐसे नहीं करना चाहिए .

 

Also Read – life में शिक्षा कैसे मिले

 

हमे बिना स्वार्थ के ही लोगो से दोस्ती करना चाहिए . उसके परिणाम की सोचे बिना क्योकि परिणाम  देना या ना देना प्रभु के हाथ मै है ना की हमारे हाथ मै इस लिए हमे अपना कर्म करते चलना है . उसका परिणाम या result  आए जो आए .

 

Also Read – कोन है – Mr PT क्या आप जानते है

 

और आपने देखा होगा कोई बच्चा अपनी पढ़ाई पूरी कर कोई job  ढूंढ़ने जाता है , तो वो किसी interview  के लिए जाता है . पर मैने देखा की interview  देने के पहले ही उसके मन मै यह चिन्ता होने लगती है , की क्या मालूम क्या होगा मुझे job  मिलेगी या नहीं . और कभी – कभी इसी चिन्ता मै लोग अपना interview  अच्छा नहीं दे पाते और Reject  भी हो जाते है .

 

Also Read – हम विचलित क्यों होते है

 

पर मेरा तो आपसे यही कहना है की job  लगना या ना लगना  ये तो बात की बात है , पर हमे पहले उस Interview  के बारे मै सोचना चाहिए की वो केसा जाना चाहिए . और अगर हमने उसकी तैयारी अच्छी की होगी तो हमारा परिणाम भी अच्छा आएगा

 

Also Read – ख्वाब कैसे साकार करे

 

लेकिन बिना तैयारी के अगर हम interview  मै पास होने की सोंचेगे तो हमारा परिणाम भी अच्छा नहीं आएगा और हम फेल भी हो सकते  है . इसलिए हमे पहले मेहनत करने पर ध्यान देना है ना की उसके परिणाम पर और जो इंसान पहले मेहनत पर ध्यान देता है तो सफलता को भी वही पाता है .

 

दोस्तों जैसे आप एक Cricket  Match  देखते हो की उसमे दोनों टीम खेलती है और उन दोनों के खिलाड़ी भी बिना परिणाम की चिन्ता करे Match  खेलते है . वो पहले से नहीं सोचते की हार होगी या जीत बस अपना Performance  देने की सोचते है . और दोनों ही टीमों के खिलाडी जी तोड़ मेहनत करते है . Match  को जितने के लिए .

 

पर अन्त मै जो सब से अच्छा होगा वो ही Match जीत जायेगा . पर रियल Life  मै हमे कोई Match नहीं  खेलना है . हमे अपने कर्म रूपी Match खेलते जाना है और बिना उसके परिणाम की चिन्ता करे . आगे बढ़ते जाना है

 

तो दोस्तों आपको यह post  ” आप क्यों सोचते है  परिणाम (Result) के बारे में ” कैसी लगी pliz  हमे बताये और मै समझता हु , की अब से आप भी जो काम करेंगे उसमे उसके परिणाम के बारे मै नहीं सोचेंगे . और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हमेशा करते चलेंगे . और हार या जीत होना ये हमारे हाथ मै नहीं है . परिणाम देना भगवान के हाथ मै है .

 

और दोस्तों आप हमे इस post से related अपने सुझाव हमे Comments के माध्यम से बता सकते है हमे आपके Comments का इंतजार रहेगा .

 

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *