स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार

स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार

स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार

दोस्तों कैसे हे आप दोस्तों में आज आपके लिए स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार लेके आया हु , जो आपको बहुत ही पसंद आएंगे और में आशा करता हु , की आपभी उन विचारो को अपने जीवन में उतारेंगे

 

स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार –

Read More-Amitabh Bachchan ke Anmol vichar महानायक अमिताभ बच्चन के विचार

जब तक आप खुद पे विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीं कर सकते

सत्य को हजार तरीको से बताया जा सकता हे , फिर भी हर एक सत्य ही होगा !

विश्व एक व्यायाम शाला हे जहा हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हे !

दिन में एक बार अपने आप से बात करो वरना तुम दुनिया में सब से महत्वपूर्ण आदमी से बात नहीं कर पावोगे

उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक अपने लक्ष्य को ना पालो

सारी शक्ति तुम्हारे अंदर ही हे ! तुम हर चीज कर सकते हो !

अपने आप में और भगवान में विश्वास करो

दिल और दिमाग के बिच तुम  अपने दिल की  सुनो

लोग मुझपर हस्ते हे क्योकि में अलग हु , में लोगो पर हस्ता हु , क्योकि वो सब एक जैसे हे !

तुम भगवान में तब तक विश्वास नहीं कर सकते , जब तक तुम खुद पर विश्वास नहीं करोगे

डरो मत – अगर तुम डरते नहीं होतो बहुत काम कर सकते हो , अगर तुम डरते होतो तुम कुछ भी नहीं हो हमेशा कहो ” डर कुछ नहीं हे ”  और ये सबको बतावो  !

एक विचार लो और उस विचार को अपनी जिंदगी बनालो , और उसी विचार के बारे में सोचो , उसी के सपने देखो उसी को जियो !

अपने में बहुतसी  कमियो के बाद भी हम अपने से प्रेम करते हे तो , दुसरो में जरासी कमी से हम उनसे कैसे घृणा  कर सकते हे !

खड़े हो जावो , और सारी जिम्मेदारी अपने कंधो पर लेलो  अपने को कमजोर समझना बंद कर दो

केवल वही जीते रहेंगे जो ओरो के लिए जीते हे !

वेदांत कहता हे कोई पाप नहीं हे बस गलतियां हे , और सबसे बड़ी गलती अपने से कहना की तुम कमजोर हो !

भगवान भी उनकी सहायता करते हे जो अपनी सहायता खुद करते हे !

किसी की निंदा मत करो , अगर तुम सहायता कर सकते होतो करो वरना अपने हाथो को अंदर कर लो और उन्हें अपने रस्ते जाने दो !

जब कोई विचार अनन्य रूप से मस्तिष्क पर अधिकार कर लेता हे तब वह वास्तविक भौतिक या मानसिक अवस्था में परिवर्तित हो जाता हे !

भला हम भगवान को खोजने कहा जा सकते हे अगर उसे अपने हृदय और हर एक जीवित प्राणी में नहीं देख सकते !

तुम्हे अंदर से बाहर की तरफ विकसित होना हे , कोई तुम्हे पढ़ा नहीं सकता , कोई तुम्हे आध्यात्मिक नहीं बना सकता , तुम्हारी आत्मा के आलावा कोई और गुरु नहीं हे

तुम फुटबाल  के जरिये स्वर्ग के ज्यादा निकट होने के बजाए गीता का अध्ययन करने के

किसी दिन , जब आपके सामने समश्या ना आये – आप सुनिश्चित हो सकते हे की आप गलत मार्ग पर चल रहे हे !

स्वतंत्र होने का साहस करो , जहा तक तुम्हारे विचार जाते हे वहाँतक जाने का साहस करो , और उन्हें अपने जीवन में उतारने का साहस करो !

किसी चीज से डरो मत , तुम अदभुत काम करोगे , यह निर्भयता ही हे जो छण भर में परम् आनंद लाती हे !

तो दोस्तों आप कोये post स्वामी विवेकानंद जी  के 25 अनमोल  विचार केसी लगी pliz हमे बताये और हम आगे भी आपके लिए , कई महान हस्तियों के अनमोल विचार लाते रहेंगे , और दोस्तों आप हमे Comments करके भी बता सकते हे की आपको ये post किसी लगी !

 

धन्यवाद

विजय पटेल

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.