किसी से बुरा मत बोलो

हेलो दोस्तों

दोस्तों कैसे हे आप दोस्तों में आज आप केलिए एक नई पोस्ट लाया हु , जो आपको बहुत ही पसंद आएगी

दोस्तों इस पोस्ट का नाम हे – किसी से बुरा मत बोलो

 

किसी से बुरा मत बोलो

दोस्तों आज के इस संसार में बोलने का बहुत महत्व हे , दोस्तों बोलने का मतलब ये की हम किसी से कैसे बोलते हे , हम किसी को कैसे सम्बोधित करते हे , किसी के सामने अपनी बात कैसे रखते हे , क्या हमारे शब्द किसी को आहट करते हे  या लोग हमारे शब्द सुनके खुश होते हे ,

 

 

दोस्तों मुख से ऐसा बोलो की हर कोई आप से प्यार करे ऐसा मत बोलो की लोग आपसे नफरत करे हमारी पहचान हमारे शब्दों से ही होती हे हम जितना मीठा बोलेगे उतना ही लोगो के प्रिय  रहेंगे लोग भी मीठा बोलने वाले कोही पसंद करते हे कड़वा बोलने  वाले को नहीं दोस्तों हमारी बोली ही हमें जीवन  में आगे बढ़ने का रास्ता देती हे !

 

 

दोस्तों कोई आदमी पढ़लिख के अगर  कही जॉब ढूंढ़ने जाता हे , तो वहा  भी उसे अपनी  बोली अपने शब्दो से ही सामने वाले को इम्प्रेस करना होगा दोस्तों में ये ग्यारेन्टी के साथ कहसकता हु , की आप भी अगर कही नौकरी का इंटरव्यू देने जाते होंगे तो अपने आप को कितना नम्र और आपके सब्द कितने मीठे रहते हे तभी आप को या हमें नौकरी मिलती हे !

 

किसी से बुरा मत बोलो

 

तो दोस्तों हमें जीवन में हर किसी से अच्छा  बोलना  होगा सब  से इज्जत से बात करना होगी दोस्तों आपने देखा होगा अगर आप किसी छोटे बच्चे से भी बत्तमीजी  से बात करोगे तो वोभी आपको वैसाही जवाब देगा दोस्तों ये मेरा खुद का उदाहरण हे , मेभी किसी बच्चे से जैसा बोलता हु , वो वैसा  ही जवाब देता हे !

 

 

तो दोस्तों केवल बच्चे से हिनही अपने वर्कप्लेस पे अपने सीनियर और जूनियर से भी अच्छे से बात करे तभी आपको इज्जत मिलेगी अन्यथा नहीं दोस्तों आप दुनिया में कही भी जाये अगर आप की बोली अच्छी हे तो आप हर जगह एग्जेस्ट कर लगे और अगर बोली  अच्छी नहीं हेतो आप कही नहीं रह्स्कते इसलिए दोस्तों अपने मुख से अच्छे शब्द निकले

 

Also Read-हमारी हक की रोटी क्या है

Also Read-लौंग और इलायची का उपयोग कैसे करे

 

दोस्तों अब में आप के सामने एक कहानी पेश करना चाहता हु , जो आप को बहुत पसंद आएगी

 

दोस्तों एक बार एक किसान ने अपने पड़ोसी को बुरा भला कह दिया , पर जब बाद में उसे अपनी गलती  का एहसास हुवा तो वह एक संत के पास गया

 

उसने संत से अपने शब्द वापस लेने का उपाय पूछा

 

संत ने किसान से कहा ” की तुम खूब सारे पंख इकट्ठा करलो , और इन्हे शहर के बीचो बिच जाकर रख दो ”

किसान ने ऐसा ही किसा और संत के पास पहुंच गया !

 

तब संत ने कहा  ” अब जावो और उन पंखो को इकट्ठा कर के वापिस लावो

 

किसान वापिस गया पर तब तक सारे पंख हवा में इधर उधर उड़ चुके थे . और किसान खाली हाथ संत के पास पहुंच गया . तब संत ने उससे कहा की ठीक ऐसा ही तुम्हारे द्वारा कहे गए शब्दों के साथ होता हे , तुम आसानी से इन्हे अपने मुख से निकाल तो सकते हो पर चाह कर भी वापिस नहीं ले सकते !

 

तो दोस्तों आपने इस कहानी के द्वारा समझा  होगा की हम हमारे मुख से जो एक बार बोलदेते हे वो कितना इम्पोर्टेन्ट होता हे ,हम  अगर किसीको कुछ गलत बोलदे तो हम उसे वापिस नहीं ला सकते इसलिए दोस्तों हमें अपने जीवन में एक बात गाठ  बांध  लेनी चाहिए की कभी किसी को बुरा ना  बोले

 

तो दोस्तों आप को ये पोस्ट  किसी से बुरा मत बोलो  केसी लगी प्लीज़ मुझे बताये और में ये आशा करुगा की आप अपने जीवन में अब

कभी किसीसे बुरा नहीं बोलेगे या कहेगे

 

धन्यवाद

विजय पटेल

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.