ऐ मेरी जिंदगी

हेलो  दोस्तों

दोस्तों  कैसे  हे  आप  दोस्तों  में  आज  आपके  लिए  एक  नई  और  ज्ञानवर्धक   post लाया  हु  ,

जिसका  नाम  हे  – ऐ मेरी जिंदगी

 

 

दोस्तों  जिंदगी  क्या  हे  हम  जिंदगी  को  कैसे  जीते  हे  क्या  हम  एक  अच्छी  जिंदगी  जीते  हे  या  हम  केवल  पैसे  के  पीछे  भाग  रहे  हे  , और  सही  मायने  में  जिंदगी  के  सुख  को  कहि  पीछे  छोड़ते  जारहे  हे

 

लोग  जीवनभर  केवल  सुख  सुविधावो  के  पीछे  भागते  रहते   अपने  जीवन  के  खास  समय  को  निकाल  देते  हे  और  जो  बचता  हे  उसमे  वो  कुछ  करने  लायक  नहीं  रहते  !

 ऐ मेरी जिंदगी:

दोस्तों  हमे  अपने  जीवन  को  पूरी  तरह  से  इंजॉय  करना  हे  और हमे  काम  करना  हे  जीवन  में  काम  बहुत  महत्वपूर्ण  हे ,  पर  काम  के  साथ  – साथ  अपने  आपको  भी  टाइम  दे  और  कुछ  समय  ऐसा  निकाले  जिसमे  आप  तमाम  तरह  के  काम – काज  दुःख  दर्द  भूल  कर  केवल  अपनी  जिंदगी  जिए  !

 

दोस्तों  जीवन  में  कुछ  ऐसे  भी  काम  करते  चले  जिससे  आपको  लोग  याद  रखे  अगर  आप  केवल   काम  करते  – करते  अपना  जीवन  निकाल  दोगे  तो  आपको  कोई  याद  नहीं  रखेगा   जो  इंसान  दुसरो  से  हट  के  होता  हे  , उसे  सब  याद  करते  हे  और  वो  सक्सेस  भी  होता  हे

 

और  जिंदगी  में  हमेशा  ऐसे  ही  काम  करे  की  आप  दुसरो  से  अलग  और  भिन्न  दिखे  और  अपने  आपको  पूरा  समय  दे  अपने  बच्चो  अपने  परिवार  को  समय  दे  दोस्तों  ये  जो  समय  हे  अगर  चलागया  तो  कभी  लौटकर  नहीं  आएगा   तो  जितना  होसके  इंजॉय  करे  !

Read More-रिजेक्शन से सीखे

दोस्तों में  आपके  लिए  जिंदगी  के ऊपर  कुछ  लेने  लाया  हु , आपको जरूर पसंद आएगी !

 

ऐ जिंदगी तू मेरे पास हे । इतना पास की जितना पास कोई नहीं।

मेरी सांसो में हर पल एक खुशबु की तरह अपने एहसास के साथ ।

पर में अनजान हु, बेखबर हु, तुझसे । तुम हर पल मेरा ख्याल करती हो

अनवरत तभ भी जब मुझे पता भी नहीं रहता अपने होने का ।

तू कोण हे और कहा रहती हो ओझल होकर क्यों नहीं अति हो मेरे ख्यालो में बरबस एक

मधुर गीत की तरह जो कभी ख्यालो में आकर अपनी मिठास से मेरे जीवन को सुरीला बना

देता हे और कर देता हे बरसात मेरे जीवन में आनंद की शांति की और प्रेम की । मुझे तेरा ही इंतजार हे ।

तेरी प्रतीक्षा में तेरा अपना.

तो दोस्तों आपको ये post ऐ मेरी जिंदगी केसी लगी pliz हमे बताये हमे आपके  Comments इंतजार रहेगा

धन्यवाद
विजय पटेल

दोस्तों इसके लेखक हे
श्री हृदेश कुमार यादव
लेखक ओरिजन ऑफ़ लाइफ

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *